वर्ष 2016 की सबसे तेज चलने वाली Supercars

Punjab Kesari

जालंधर : ऑटोमोबाइल की दुनिया में यह वर्ष खास रहा है और इसका एक कारण यह है कि वर्ष 2016 में बुगाटी ने अपनी नई स्पोट्स कार ‘शिरॉन’ को पेश किया है। दूसरी तरफ अगर हम बात करें सबसे तेज चलने वाली सुपरकारों की तो इस बार आपको टॉप 5 में लेम्बोर्गिनी और फरारी की कारें देखने को नहीं मिलेंगी। आइए एक नजर डालते हैं वर्ष 2016 की सबसे तेज चलने वाली कारों पर - 

Apollo Arrow - (360 km/h)


Apollo Arrow


इसे इस वर्ष की शुरूआत में जेनेवा मोटर शो में पेश किया गया था। अपोलो एरो का डिजाइन तो बेहतरीन है ही, साथ ही इसमें ऑडी का वी8 इंजन लगा है जो 986 हार्सपावर की ताकत और 1000 एन.एम. का टार्क पैदा करता है। इसके केवल 100 यूनिट्स ही बनाए जाएंगे और इसे खरीदने वाला अपने हिसाब से बदलाव भी करवा सकता है। यह कार 0-100 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार महज 2.9 सैकेंड में पकड़ लेती है और इसकी टॉप स्पीड 360 कि.मी. प्रति घंटा है। 

Zenvo TS1 - (375 km/h)


Zenvo TS1


चौथे नम्बर पर डेनिश निर्माता जेनवो की टीएस1 का नाम आता है। वर्ष 2007 में कम्पनी ने एसटी1 को लांच किया था जो लिमिटेड हाइपर कारों में शामिल थी। टीएस1 का नाम एसटी1 से मिलता है लेकिन टीएस1 में बहुत से बदलाव किए गए हैं।  इसमें नया ट्विन टर्बो 5.9 लीटर वी8 इंजन लगा है और कम्पनी द्वारा इसकी पावर के बारे में कोई जानकारी सांझा नहीं की गई है। हालांकि यह कार 1100 हार्सपावर की ताकत जैनरेट करेगी और इसकी टॉप स्पीड 375 कि.मी. प्रति घंटा है। 3.7 सैकेंड में 0-100 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार पकडऩे वाली इस कार के 15 यूनिट्स ही बनाए जाएंगे। फिलहाल इसकी कीमत के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

Pagani Huayra BC - (383 km/h)


Pagani Huayra BC


पागानी हुआयरा विश्व की सबसे तेज चलने वाली कारों में शामिल है लेकिन बीसी मॉडल से हुआयरा की परफार्मैंस और भी बढ़ा दी गई है। इतालवी सुपरकार निर्माता पागानी की हुआयरा बीसी 383 कि.मी. प्रति घंटा की टॉप स्पीड पर चल सकती है और तीसरे नम्बर पर है।  हुआयरा बीसी में नया 7 स्पीड ऑटोमैटिक मैनुअल गियर बॉक्स लगा है जो साधारण हुआयरा से 40 प्रतिशत हल्का है। ट्विन टर्बो एएमजी वी12 इंजन के कारण यह 0 से 100 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार महज 2.8 सैकेंड में पकड़ लेती है। इसके केवल 20 यूनिट्स ही बनाए जाएंगे और प्रत्येक की कीमत 2.5 मिलियन डॉलर होगी।

Koenigsegg Regera - (410 km/h)


Koenigsegg Regera.jpg


सुपरकार बनाने वाली कम्पनियों में कोनिगसेग बेहद मशहूर है। कोनिगसेग रेगेरा में 5.0 लीटर ट्विन टर्बोचाज्र्ड वी8 इंजन और 3 इलैक्ट्रिक मोटरें लगी हैं जिसके साथ जटिल गियर बॉक्स काम करता है। कोनिगसेग की अन्य कारों की तरह रेगेरा भी अलग दिखने वाले डिजाइन के साथ आती है। इसमें लगा इंजन और इलैक्ट्रिक मोटरें 1,479 बी.एच.पी. की ताकत पैदा करती हैं। यह सुपरकार 2.8 सैकेंड में 100 कि.मी. प्रति घंटा और 6.6 सैकेंड में 200 और 10.9 सैकेंड में 300 कि.मी. प्रति घंटा और 20 सैकेंड में 400 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ लेती है। इसकी टॉप स्पीड 410 कि.मी. प्रति घंटा है और कीमत 1.9 मिलियन डॉलर है।

Bugatti Chiron - (420 km/h)


Bugatti Chiron


बुगाटी ने इस सुपरकार को जेनेवा मोटर शो में पेश किया था और खास बात यह है कि इसके केवल 500 यूनिट्स ही बनाए जाएंगे और प्रत्येक की कीमत 2.612 मिलियन डॉलर होगी।  शिरोन की खास बात यह है कि इसमें 1500 हार्सपावर का डब्ल्यू 16 इंजन लगा है। दुनिया की सबसे तेज चलने वाली यह कार 463 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार पर दौड़ सकती है। हालांकि कम्पनी ने इसकी स्पीड लिमिट को 420 कि.मी. प्रति घंटा पर सैट किया है। यह 0-100 कि.मी. प्रति घंटा की रफ्तार महज 2.5 सैकेंड में पकड़ लेती है।