ज्यादा सेल्फी लेने वाले लोग हो सकते है इन बिमारियों का शिकार

Punjab Kesari

जांलधर: आज कल लोगों में सेल्फी का क्रेज इतना बढ़ गया है कि वह जहां भी जाते हैं, वहीं अपनी सेल्फी क्लिक करने लग जाते हैं। फोटो क्लिक करते ही लोग उसे फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप्प पर शेयर करना पसंद करते हैं लेकिन एक अध्ययन में यह बात सामने आई है सेल्फी का क्रेज युवाओं में अकेलेपन और तेजी से बढ़ते डिप्रेशन की ओर इशारा कर रहा है। सेल्फी के बढ़ रहें इस क्रेज ने काफी हद तक लोगों को इन बिमारियों का शिकार बना लिया है । आइए जानते है इनके बारें मेंः-

बार्डरलाईन सेल्फीटीस : अगर आप रोजाना तीन या तीन से अधिक सेल्फी क्लिक करते हैं, लेकिन उन्हें सोशल मीडिया (फेसबुक, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम) पर अपलोड नहीं करते हैं। इसे सेल्फी की लत की पहली स्टेज कहा जाता है। इसमें आप फोटो क्लिक करने के बाद अपने फोन या कैमरे में सेव रखते हैं और बार-बार अपने फोटो को देखते हैं।

अक्यूट सेल्फीटीस  :  रोजाना तीन से अधिक सेल्फी सोशल मीडिया पर अपलोड करने वाले लोग अक्यूट सेल्फिाइटिस के शिकार होते हैं। इन लोगों को हर पल अपना सोशल मीडिया अकाउंट चेक करने की आदत होती है। फेसबुक और इंस्टाग्राम पर सेल्फी अपलोड करने की लत के चलते यह लोग अपने मित्रों को कम समय दे पाते हैं।

क्रॉनिक सेल्फीटीस  : इन लोगों को रोजाना दस से अधिक सेल्फी क्लिक करनी होती हैं, जिनमे से कम से कम छ: सेल्फी इन लोगों को सोशल मीडिया पर अपलोड करनी होती हैं। ऐसे लोगों की सोशल लाइफ सिर्फ कंप्यूटर या मोबाईल तक सिमित रहती है। इन लोगों में अकेलेपन या डिप्रेशन के सबसे अधिक मामले पाए जाते हैं।