आपके स्मार्टफोन को ‘आंखों का डॉक्टर’ बना देगा यह डिवाइस

Punjab Kesari

जालंधर: तकनीक के इस युग में आंखों का ख्याल रख पाना थोड़ा-सा मुश्किल हो गया है। प्रतिदिन घंटों स्मार्टफोन्स और कम्प्यूटर के इस्तेमाल से आंखों की रोशनी पर तेजी से असर हो रहा है। यदि आपको भी लगता है कि आपकी आंखों की रोशनी कम हो रही है या वैसे ही आंखें चैक करना चाहते हैं तो आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं है। आईक्यू (EyeQue) नामक पर्सनल विजन ट्रैकर की मदद से आंखों को घर बैठे ही चैक किया जा सकता है। हाल ही में फिटनैस, स्पोट्र, और बायोटैक कैटेगरी में 2017 सी.ई.एस. इनोवेशन अवार्ड में आईक्यू टॉप पर और 2017 प्रिजम अवार्ड में यह फाइनलिस्ट में शामिल था।

आईक्यू से जुड़ीं कुछ खास बातें

- इसमें हार्डवेयर (डिवाइस) और सॉफ्टवेयर (एप) भी मिल कर काम करते हैं। 

- माइक्रोस्कोप जैसे दिखने वाले आईक्यू डिवाइस को स्मार्टफोन से अटैच करने के बाद एप को ओपन कर आईक्यू में से स्मार्टफोन की स्क्रीन पर देखना होता है। 

- प्लस और माइनस साइन की मदद से लाल और हरे बार को मिलाना होता है जिससे यूजर की आंखों की जांच होती है। 

- आईक्यू यह भी बताता है कि आंखों को कितने नम्बर के चश्मे की जरूरत है।

- एंड्रॉयड और आई.ओ.एस. स्मार्टफोन्स के लिए फ्री में उपलब्ध एप से यूजर आंखों की स्थिति को ट्रैक भी कर सकेंगे। 

कीमत

फिलहाल यह डिवाइस किकस्टार्टर अभियान का हिस्सा है और कम्पनी ने 25,000 डॉलर के लक्ष्य से तीन गुना अधिक की राशि इकट्ठा कर ली है। मार्कीट में आने के बाद इसकी कीमत 29.99 डॉलर (लगभग 2040 रुपए) होगी।'

अन्य डिवाइसिस से है सस्ता

बाजार में स्मार्टफोन आधारित आंखें चैक करने वाले कुछ अन्य डिवाइसिस (स्मार्ट विजन लैब्ज का एस.वी.वन (SVOne) और पीक (Peek) भी उपलब्ध हैं। हालांकि इनकी कीमत आईक्यू से बेहद ज्यादा है जिस कारण  आईक्यू को बहुत से लोग खरीद सकते हैं।