अब एप्स को टक्कर देंगी, मोबाइल अनुकूलित साइट्स

  • अब एप्स को टक्कर देंगी, मोबाइल अनुकूलित साइट्स
You Are HereApps
Friday, August 11, 2017-8:53 PM

जालंधर- अाने वाले समय में मोबाइल एप्लीकेशन जल्दी ही अप्रचलित हो सकते हैं। इस का मुख्य कारण मोबाइल ब्राऊज़ करने योग्य वेबसाइट्स पर एप्स की तरह सुविधाए मिलना हैं। इसके अलावा मोबाइल स्टोरेज स्पेस की कमी इस नए रुझान का मुख्य कारण हो सकती है।

वही साल 2016 के मिले आंकड़ों से यह पता लगता है कि भारत में एप्स की अनइंस्टाल दर अधिक 35% है। ग्लोबली तौर पर स्टोरेज स्पेस की कमी, एप्प क्वालिटी, डिवाइस की क्वालिटी के कारण दुनियाभर में 10' में से 3 एप्प अनइंस्टाल किए जाते हैं। 


बता दें कि मोबाइल में PWAs के मुख्य काम लोकेशन ट्रेकिंग, पुलिस नोटिफिकेशन भेजना हैं। अब ऐसीं सहूलतें वेबसाइट्स में शामिल की जा रही हैं। वहीं एक रिपोर्ट के अनुसार कंपनियों के लिए फंक्शन बेसिक एप्प बनाने में 6 से 8 महीने लग जाते हैं, परन्तु PWA द्वारा इसके लिए लगभग आधा समय और आधा ख़र्च लगता है। 


 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !