पसीने से मेडिकल रीडिंग लेगा यह नया बायोसेंसर

  • पसीने से मेडिकल रीडिंग लेगा यह नया बायोसेंसर
You Are Heretechnology
Monday, August 07, 2017-4:27 PM

जालंधर- बदलते समय के साथ तकनीक इतनी विकसित हो गई है कि हमारे रोजमर्रा के कई काम अासान होते जा रहे है। इसी के तहत अमरीका में सिनसिनाटी विश्वविद्यालयों के शोधार्थियों ने एक उपकरण विकसित किया है जो ‘बैंड -एड’ के आकार का है। यह पसीना निकालने के लिए एक रासायनिक प्रेरक का उपयोग करता है और यह उस वक्त भी काम करता है जब रोगी या व्यक्ति शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं होता। 


कैसे करता है काम 

यह नया सेंसर त्वचा के एक छोटे हिस्से में पसीने की ग्रंथी को प्रेरित करता है और यह उस वक्त भी ‘मेडिकल रीडिंग’ कर सकता है , जब उपयोगकर्ता का पसीना नहीं निकलता है। बता दें कि मानव के पसीने की जांच करने वाले मेडिकल सेंसर के लिए दिन भर पसीना निकलने की जरूरत होती है ताकि निरंतर स्वास्थ्य रीडिंग ली जा सके। वहीं विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जेसन हेकनफेल्ड ने कहा, ‘‘हमारा लक्ष्य जरूरत के मुताबिक पसीना निकालने को प्रेरित करना था।’’ 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !