जापान बनाएगा सबसे तेज चलने वाला Super Computer

Punjab Kesari

जालंधर : चीन का ‘सनवे ताएहूलाइट’ (Sunway Taihulight) विश्व के सबसे तेज सुपर कम्प्यूटरों की श्रेणी में पहले स्थान पर है। एक सैकेंड में 9.3 करोड़ अरब गणनाएं कर सकने वाला सनवे ताएहूलाइट आठवीं बार सूपर कम्प्यूटर की श्रेणी में शीर्ष पर रहा है लेकिन यह अपनी जगह पर ज्यादा देर कायम नहीं रहेगा। दरअसल जापान सुपर कम्प्यूटर की श्रेणी में पहले स्थान पर आने की तैयारी कर रहा है। 

130 पेटफ्लॉप्स की क्षमता 
जापान की मिनिस्ट्री ऑफ इकॉनमी, ट्रेड एंड इंडस्ट्री नए सुपर कम्प्यूटर के लिए 19.5 बिलियन जापानी येन (लगभग 173 मिलियन डॉलर) खर्च करने की योजना बना रही है। रिपोर्ट के मुताबिक यह विश्व का सबसे तेज चलने वाला सुपर कम्प्यूटर होगा जिसमें 130 पेटफ्लॉप्स की क्षमता होगी। फिलहाल मंत्रालय की तरफ से इस सुपर कम्प्यूटर के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी गई है। जापान के नैशनल इंस्टीच्यूट ऑफ एडवांस्ड इंडस्ट्रीयल साइंस एंड टैक्नोलॉजी के डायरैक्टर जनरल Satoshi Sekiguchi ने राइटर्स को बताया कि जहां तक हम जानते हैं अभी तक किसी अन्य ने इतना तेज कम्प्यूटर नहीं बनाया।

चीन के सुपर कम्प्यूटर से भी होगा तेज
अगर चीन के सुपर कम्प्यूटर की बात करें तो इसमें 93 पेटफ्लॉप्स की क्षमता है, जबकि रिपोर्ट के मुताबिक जापान के सुपर कम्प्यूटर में 130 पेटफ्लॉप्स की क्षमता होगी। इस सुपर कम्प्यूटर को लेकर कोई बड़ा प्लान सामने नहीं आया है क्योंकि अभी तक जापान ने इस बारे में कोई घोषणा नहीं की है। इस सुपर कम्प्यूटर से ए.आई. टैक्नोलॉजी को गहनता से समझने में मदद मिलेगी।

लाइसैंस देकर करवाया जाएगा उपलब्ध
इस सुपर कम्प्यूटर [प्रति सैकेंड शंख (1 के बाद 24 शून्य वाली संख्या) गणना करने के कारण यह मल्टीटास्किंग में काफी माहिर होगा] का प्रयोग ऑटोनोमस व्हीकल्स को विकसित करने के साथ-साथ मैडीसिन और रोबोट्स के क्षेत्र में भी प्रयोग किया जाएगा। टैक क्रंच की रिपोर्ट के मुताबिक घरेलू कम्पनियों से पैसे लेकर इस सुपर कम्प्यूटर के लिए लाइसैंस भी उपलब्ध करवाया जाएगा।