भारतीय मोबाइल फोन मार्किट में बढ़ रही है चीन की धाक

Punjab Kesari

जालंधरः भारतीय स्मार्टफोन पर चीन ने धाक जमाते हुए इसके 40 प्रतिशत पर कब्जा कर लिया है। चीन ने दावा किया है कि दिवाली के दौरान भारत के शीर्ष 30 शहरों के स्मार्टफोन बाजार में 40 प्रतिशत से अधिक खपत उसके उत्पादों की हुई है। चीन के दैनिक ‘चाइना डेली’ में प्रकाशित रिपोर्ट में शोध फर्म इंटरनैशनल डाटा कॉर्प के हवाले से बताया गया है कि दिवाली के दौरान उपभोक्ताओं को आकर्षित करने के लिए चीन की कंपनियों ने कई ऑफर पेश किए।

जियोमी कॉर्प के स्मार्टफोन की बाजार में हिस्सेदारी तीसरी तिमाही के 7.4 प्रतिशत से बढ़कर 10.70 प्रतिशत पर पहुंच गई। इसके साथ ही लेनेवो की भी बाजार में हिस्सेदारी 9.6 प्रतिशत से बढ़कर 13.40 प्रतिशत हो गई। ब्रिकी के मजबूत आंकड़ों पर टिप्पणी करते हुए आईडीसी इंडिया की वरिष्ठ बाजार विश्लेषक उपासना जोशी ने बताया कि यह बिल्कुल ऐसा था जैसे सभी शहरों में चीन के स्मार्टफोन की दिवाली हो। चीन के स्मार्टफोन ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से काफी बिक रहे हैं।  

चीन केे स्मार्टफोन कंपनियों की भारतीय बाजार में लोकप्रियता के पीछे इन कंपनियों की भारत में निवेश में की गयी बढ़ोतरी है। शोध फर्म काऊंटर प्वांइट टैक्नोलॉजी के बाजार अनुसंधान के अनुसार, भारत में अगले चार साल में स्मार्टफोन धारकों की संख्या 50 करोड़ के पार पहुंच जाएगी। विश्लेषकों की राय में चीन की स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां भारतीय बाजार को इसलिए हसरत देख रही हैं क्योंकि घरेलू बाजार में उनके उत्पाद की मांग अब स्थिर हो गयी है। भारत में स्मार्टफोन का बाजार अभी उभार पर है जैसा कि कई साल पहले तक चीन में था।  

भारत में स्मार्टफोन के बढ़ते प्रचलन को देखते हुए हुआवेई टैक्नोलॉजी कंपनी लिमिटेड ने गत साल अक्तूबर में यहीं अपने हैंडसेंट असेंबल करने शुरू कर दिए थे। कंपनी के अनुसार, भारत एक ऐसा बाजार है, जिसे कोई नजरअंदाज नहीं कर सकता। इस मौके का लाभ उठाने के मकसद से जियोनी कम्युनिकेशंस इक्विपमेंट कंपनी लिमिटेड ने भी भारत में स्मार्टफोन संयंत्र लगाने के लिए 7.38 करोड़ डॉलर निवेश की घोषणा की है। कारोबार विश्लेषकों के अनुसार, भारत में चीन की कंपनियों के निवेश का लाभ अब मिलना शुरू हो गया है लेकिन भारतीय बाजार में अब भी सस्ते हैंडसेट अधिक बिकते हैं, जिससे सैमसंग इलैक्ट्रॉनिक कंपनी लिमिटेड तथा अन्य स्थानीय कंपनियों को अधिक फायदा है।