RBI ने जारी किए आंकड़ें, मोबाइल वॉलेट के इस्तेमाल में हुई बढ़ोतरी

Punjab Kesari

जालंधरः रोजमर्रा की जिंदगी में मोबाइल जीवन का सबसे जरूरी हिस्सा बन गया है। मोबाइल सिर्फ बात करने का जरिया ही नहीं बल्कि इससे दुनिया भर के अनेकों काम किए जा सकते हैं। जैसे कि पैसों का लेनदेन। आरबीआई ने मई में नवंबर से अप्रैल तक डिजिटल पेमेंट के आंकड़े जारी किए हैं, जिसमें मोबाइल से जुड़ी बैंकिंग के मामले में तेजी से बढ़ोतरी हुई है। हालांकि, मर्चेंट डिस्काउंट रेट (एमडीआर) के मुद्दे पर विरोध के चलते क्रेडिट और डेबिट कार्ड से प्वाइंट ऑफ सेल (पीओएस) पर लेनदेन में कमी आई है।

साधारण मोबाइल से अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डाटा (यूएसएसडी यानी 99) से कैश लेनदेन करीब 50 गुना, यूनीफाइड पेमेंट इंटरफेस से करीब 26 गुना और इमीडिएट पेमेंट सर्विस के जरिये करीब दो गुना बढ़ा है। हालांकि 20 फीसद की दर से मोबाइल बैंकिंग भी बढ़ी है। मोबाइल को वॉलेट के रूप में इस्तेमाल करने के मामले में ऐसे ग्राहकों का भरोसा बढ़ा है जो स्मार्टफोन का प्रयोग नहीं करते। नवंबर 2016 में जहां महज सात हजार लोगों ने यूएसएसडी के जरिये लेनदेन किया था, वहीं अप्रैल में यह संख्या तीस गुना बढ़कर 2.10 लाख से ज्यादा हो गई। रकम को भेजने के मामले में भी विश्वास बढ़ा है। नवंबर में केवल 73.02 लाख रुपये के लेनदेन इस जरिये हुए, वहीं अप्रैल में यह तीस करोड़ रुपये से अधिक हो गया।