DNA का पता लगाने में मदद करेगा स्मार्टफोन

Punjab Kesari

जालंधर - हाल ही में वैज्ञानिकों ने स्मार्टफोन आधारित माइक्रोस्कोप विकसित किया है जो दुनिया के रिमोट एरिया में कैंसर का पता लगाने में मदद करेगा। इस डिवाइस को अविकसित देशों में उपयोग करने के लक्ष्या से खास तौर पर बनाया गया है जहां डॉक्टरों के पास DNA का पता लगाने के लिए हमेशा टूल्स और एक्सपर्टस उपलब्ध नहीं होते। इस लाइटवेट ऑप्टिकल अटैचमेंट डिवाइस को कैलिफोर्निया नैनोसिस्टम्स इंस्टिट्यूट, स्वीडन स्टॉकहोल्म यूनिवर्सिटी और उप्पसला यूनिवर्सिटी ने मिल कर विकसित किया है। 

रिसर्च टीम ने कहा है कि इस डिवाइस से मल्टी-मोड इमेजेज़ कैप्चर की जा सकती हैं और अल्गोरिथम की मदद से इन्हें आटोमेटिक एनालिसिस कर सकते हैं। इस डिवाइस को कैंसर के छोटी मात्रा में कैंसर सेल्स डिटेक्ट करने के लिए यूज किया जा सकता है और इससे इलाज कराने की लागत में भी कमी आएगी। उल्लेखनीय है कि इस डिवाइस के प्रोटोटाइप में लूमिया 1020 हैंडसेट का उपयोग किया गया है जो 38-मेगापिक्सेल कैमरे लैंस है और 1/1.5-इंच सेंसर की मदद से 6.86mm लांग फोकल लेंथ को स्पोर्ट करता है। फिलहाल इसे लैब में टेस्ट किया जा रहा है, लेकिन जल्द ही इस दुनिया भर में उपलब्ध किया जाएगा।