रहस्यमयी रेडियो तरंगों से ब्रह्मांड की कॉस्मिक किरणों को समझने में मिलेगी मदद

Punjab Kesari

मेलबर्न : खगोलविदों को कम-से-कम एक अरब प्रकाशवर्ष दूर एक आकाशगंगा से निकली रेडियो तरंगों की अत्यधिक चमकीली कास्मिक किरणों के माध्यम से ब्रह्मांड में स्थित आकाशगंगाओं की आंतरिक चीजों को देखने का मौका मिला।   
संक्षिप्त समय के लिए ही सही लेकिन पिछले वर्ष एक ऑस्ट्रेलियाई दूरदर्शी तक पहुंचे शानदार विकिरण से वैज्ञानिकों को ब्रह्मांड के निर्माण से जुड़े रहस्यों में झांकने का अवसर मिला। फास्ट रेडियो बस्ट (एफआरबी) के रूप में प्रसिद्ध इन किरणों का पता पहली बार वर्ष 2001 में लगाया गया था और तब से इसका आकलन किया जा रहा है लेकिन पहली बार इसकी तीव्रता इतनी अधिक थी।  
राष्ट्रमंडल वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान संगठन (सी.एस.आई.आर.आे.) के पाक्र्स रेडियो ने इसका पता लगाया था और ऑस्ट्रेलिया के स्विनबर्न विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मैथ्यू बेल्स की अगुवाई में सुपरकंप्यूटिंग समूह द्वारा विकसित प्रणाली ने इसका विश्लेषण किया। साइंस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में यह बात कही गयी है।