दुनिया का सबसे ज्यादा उष्मा प्रतिरोधी पदार्थ मिला

Punjab Kesari

लंदन : वैज्ञानिकों ने एेसे पदार्थों की पहचान कर ली है, जो लगभग 4000 डिग्री सेल्सियस के तापमान को सहन कर सकते हैं। यह खोज बेहद तेज हाइपरसोनिक अंतरिक्ष वाहनों के लिए बेहतर उष्मा प्रतिरोधी कवच बनाने का रास्ता खोल सकती है। ब्रिटेन के इंपीरियल कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने खोज की है कि हैफ्नियम कार्बाइड का गलनांक अब तक दर्ज किसी भी पदार्थ के गलनांक से ज्यादा है। 

टैंटेलम कार्बाइड और हैफ्नियम कार्बाइड ‘रीफ्रेक्ट्री सीरेमिक्स’ हैं, इसका अर्थ यह है कि ये असाधारण रूप से उष्मा के प्रतिरोधी हैं। अत्यधिक उष्मा को सहन कर सकने की इनकी क्षमता का अर्थ यह है कि इनका इस्तेमाल तेज गति के वाहनों में उष्मीय सुरक्षा प्रणाली में और परमाणु रिएक्टर के बेहद गर्म पर्यावरण में ईंधन के आवरण के रूप में किया जा सकता है।

इन दोनों ही यौगिकों के गलनांक के परीक्षण प्रयोगशाला में करने के लिए प्रौद्योगिकी उपलब्ध नहीं थी। एेसे परीक्षण से यह देखा जा सकता है कि ये कितने अधिक गर्म पर्यावरण में काम कर सकते हैं। शोधकर्ताओं ने इन दोनों यौगिकों की गर्मी सहन कर सकने की क्षमता के परीक्षण के लिए लेजर का इस्तेमाल करके तेज गर्मी पैदा करने वाली एक नई प्रौद्योगिकी विकसित की है। उन्होंने पाया कि यदि इन दोनों यौगिकों को मिश्रित कर दिया जाए तो उनका गलनांक 3905 डिग्री सेल्सियस था। लेकिन दोनों यौगिकों को अलग-अलग गर्म किए जाने पर उनके गलनांक अब तक ज्ञात पदार्थों के गलनांक से ज्यादा पाए गए।   

टैंटेलम कार्बाइड 3768 डिग्री सेल्सियस पर गल गया जबकि हैफ्नियम कार्बाइड का गलनांक 3958 डिग्री सेल्सियस था। ये निष्कर्ष नई पीढ़ी के हाइपरसोनिक वाहनों, यानी अब तक के सबसे तेज अंतरिक्षयानों के लिए मार्ग प्रशस्त कर सकता है।