मार्क जकरबर्ग ने बनाया खास सिस्टम, चेहरा पहचानकर खोलेगा दरवाजा

Punjab Kesari

जालंधर - फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और सह-संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने जार्विस नाम का आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस सिस्टम बनाया है जो पर्सनल अस्सीस्टेंस की तरह काम करेगा। यह तकनीक घर आने वाले व्यक्ति का चेहरा पहचानकर तय करेगी कि दरवाजा खोलना है या नहीं। इसके अलावा यह लाइट अॉन-अॉफ करने एसी और टोस्टर को चलाने आदि में भी मदद करेगी। आपको बता दें कि हॉलीवुड की आयरन मैन मूवी में जार्विस नाम का पर्सनल अस्सीस्टेंस दिखाया गया है। जकरबर्ग ने अपने इस इंटेलिजेंस सिस्टम का नाम वहीं से लिया है। 

इसे बनाने में मार्क को कनेक्टेड डिवाइसिस में कॉमन स्टैंडर्ड का ना होना और आवाज पहचानने जैसी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। अपने फेसबुक पोस्ट में मार्क जुकरबर्ग ने लिखा 'जार्विस मेरे लिए 2016 में व्यक्तिगत चुनौती की तरह था। इस नई तकनीक से कम्प्यूटर चहरे और आवाज को पहचानने के अलावा पैटन को भी पहचानने में सक्षम हो गया।'

mark1

आवाज के अंतर को बखूबी समझती है यह तकनीक -

जार्विस लोगों की आवाज के अंतर को बखूबी समझता है। जकरबर्ग का कहना है कि उन्होंने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस को कहा कि मेरे अॉफिस का एसी अॉन करो - यह बात मैं कहूं तो मेरे अॉफिस का ऐसी अॉन होगा और अगर उनकी पत्नी प्रिसिला कहे तो उनके अॉफिस का ऐसी अॉन होगा।

मार्क ने खुद विकसित किया कोड -

मार्क जुकरबर्ग इस आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस सिस्टम के जरिए अपने फोन या कंप्यूटर पर बात कर सकते हैं। इसे बनाने में उन्होंने लैंग्वेज प्रोसेसर, स्पीच और फेस रिकग्निशन जैसी तकनीकों का उपयोग किया है। मार्क के घर में यूज किए गए स्मार्ट सिस्टम की कोडिंग अलग लेंगुएज में की गई थी। इन्हें जोड़ने के लिए मार्क ने खुद कोर्ड तैयार किया। जकरबर्ग ने कहा कि 'इसे और बेहतर बनाएंगे और घर के सभी उपकरणों को इसके साथ जोड़ेगें।' फिलहाल इसके लिए एंड्रॉयड एप्प बनाने की कोशिश जारी है। 

mark 2

उल्लेखनीय है कि जार्विस का कोड मार्क सार्वजनिक नहीं करेंगे, क्योंकि यह उनके घर के सुरक्षा सिस्टम के साथ जुड़ा हुआ है, लेकिन उनका कहना है कि इस आधार पर बेहतर प्रोडक्ट्स बनाए जाएंगे। जिसमें टेक्ट के अलावा यूजर की आवाज भी कमांड देगी। फिलहाल इस तकनीक को फेसबुक के मैसेंजर और एप्ल की एप्प से चलाया जा रहा है। मार्क ने कहा है कि आना वाले समय में वर्चुअल रियलिटी हैंडसेट से ज्यादा इस तकनीक की बिक्री होगी।