मोजिला ने साइबर अटैक्स को रोकने के लिए जारी किया अपडेट

Punjab Kesari

जालंधरः समय के साथ-साथ ब्राउजर में कई तरह की समस्या आनी शुरू हो जाती है जिसे कंपनी एरर फ्री करने में जुट जाती है। हाल ही में आई रिपोर्ट के अनुसार, मोजिला ने फायरफॉक्स और इसपर आधारित Tor ब्राउजर के लिए एक जरूरी सिक्यॉरिटी पैच जारी किया है। जिसमें Firefox के एक कोड की खामी को दूर किया गया। यह पैच सीक्रेट रूप से ब्राउजिंग करने की सुविधा देने वाले टॉर यूजर्स की पहचान जाहिर करने वाले कोड को ब्लॉक करने के लिए बनाया गया है। 

जानकारी के अनुसार,  इस खामी की वजह से एनॉनिमस (बिना पहचान बताए) ब्राउजिंग के लिए टॉर ब्राउजर इस्तेमाल करने वाले यूजर्स की पहचान को फिर से डी-एनॉनिमाइज किया जा सकता था। मोजिला के ओपन-सोर्स फायरफॉक्स पर आधारित टॉर ब्राउजर पर एक वेबपेज लोड किया जाता था। खास जावास्क्रिप्ट और कोड्स वाला यह पेज असली आईपी और मैक अड्रेस को सेंट्रल सर्वर मे भेज देता था। एनॉनिमस ब्राउजिंग को बेकार करने का यह तरीका फायरफॉक्स या टॉर ब्राउजर इस्तेमाल करने वाले विंडोज सिस्टम पर ही काम करता था, मगर Veditz का कहना था कि macOS और Linux पर भी यह खतरा था। मोजिला ने इस समस्या को फिक्स करके नया अपडेट जारी कर दिया है और अपने यूजर्स से गुजारिश की है अपने ब्राउजर्स को अपडेट करें। इस बग की वजह मोजिला का थंडरबर्ड ईमेल क्लाइंट भी प्रभावित हुआ था। 

एक्सपर्ट्स का कहना है जिस कोड से इन ब्राउजर्स को इस्तेमाल करने वाले यूजर्स की असली पहचान जाहिर की जाती थी, यह ठीक वैसा ही कोड था, जैसा FBI ने 2013 में चाइल्ड पॉर्न देखने वालों का आईपी पता लगाने के लिए इस्तेमाल किया था। जिन बग्स के बारे में डिवेलपर को भी पता नहीं होता, उन्हें जीरो डे (Zero day या 0-day) बग कहा जाता है। Veditz का कहना है कि मोजिला को नहीं पता कि इस कोड को FBI ने डिवेलप किया है या किसी अन्य सरकारी एजेंसी द्वारा।