कम समय में सैंपल्स ले जाने में मदद करेंगे ड्रोन्स

Punjab Kesari

जालंधर : अस्पतालों की एक चेन स्विस ने पिछले साल कैलीफोर्निया की डिलीवरी कम्पनी मैटरनैट (Matternet) के साथ सांझेदारी की थी। इस सांझेदारी में अस्पताल तक सैम्पल्स पहुंचाने वाले डिलीवरी ड्रोन का पहला ट्रायल किया गया था। 

हाल ही में इस तकनीक को स्विस एविएशन अथॉरिटी ने ग्रीन लाइट देते हुए मैटरनैट को दो अस्पतालों में सैंपल्स ले जाने के लिए अप्रूवल दे दी है। इन लैबोरेट्री के सैंपल्स को स्विट्जरलैंड के एक शहर लुगानो में पहली बार ले जाया जाएगा।

प्री डिफाइन्ड रूट पर करेंगे काम

अस्पताल का स्टाफ इन सैम्पल्स को ड्रोन में लोड कर स्मार्टफोन एप की मदद से लांच करेगा। यह ड्रोन एक प्री डिफाइन्ड रूट को सिलैक्ट करते हुए निर्धारित की गई लोकेशन पर पहुंचेगा। इसके बाद यह ड्रोन इंफ्रारैड सिग्नल से डिटैक्ट करेगा कि सैम्पल्स को अनलोड कर दिया गया है जिसके बाद यह वापस उसी जगह पहुंच जाएगा जहां से इसे लांच किया गया था। उम्मीद की जा रही है कि इस तकनीक से सड़क द्वारा सैंपल्स भेजने से काफी कम समय में डिलीवरी हो सकेगी। स्विस ने कहा है कि अगर सब कुछ प्लान के मुताबिक चलता रहा तो अथॉरिटीज की अप्रूवल व 4 अप्रैल को फाइनल टैस्टिंग के बाद ड्रोन्स से डिलीवरी होना सम्भव होगा।

20 किलोमीटर का तय करेगा रास्ता

मैटरनैट ने अपने ड्रोन्स को 2 किलोग्राम वजन को कैरी कर कम से कम 20 किलोमीटर तक का रास्ता तय करने के लिए बनाया है। जानकारी के मुताबिक इन ड्रोन्स की टॉप स्पीड 36 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी और ये पैराशूट से लैस होंगे ताकि किसी भी तरह के फेलियर होने पर सैंपल्स को बचाया जा सके।