यह तकनीक बदल देगी Device को चार्ज करने का तरीका

Punjab Kesari

जालंधर : निकट भविष्य में शायद ऐसा भी सम्भव हो सकता है कि आपके फोन पर एम्बिएंट लाइट पड़े और फोन की बैटरी चार्ज हो जाए। यह महज एक कल्पना नहीं है। जापानी कम्पनी Kyocera जो सोल पावर्ड डिस्प्ले पर रिसर्च कर रही है, का मानना है कि ऐसा हो सकता है। अब यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनॉयस स्थित अरबाना- कैंपेन ने इससे कुछ अलग विकसित कर रही है।

लाइट को एनर्जी में बदल देगी यह तकनीक

शोधकर्त्ताओं ने नई टैक्नोलॉजी इजाद की है। इसमें डिस्प्ले लाइट को सोखती है और उसे एनर्जी में बदलती है। इस काम के लिए डिस्प्ले में कुछ अन्य चीजों को भी शामिल किया गया है। छोटे नैनो नैनोरॉड्स को पतली फिल्म के जरिए एल.ई.डी. पर लगाया गया है जिसमें तीन अलग-अलग तरह के सैमीकंडक्टर्स जो 5एन.एम. से भी कम समय में अपने काम को पूरा करते हैं। इन मैटीरियल्स में से एक लाइट को छोडऩे के साथ-साथ उसे अपने अंदर सोखती भी है, जबकि दो अन्य मैटीरियल इलैक्ट्रोन्स के बहाव की सुविधा देते हैं। इससे एल.ई.डी. लाइट छोडऩे, लाइट को सैंस करने और विजीबल एम्बिएंट लाइट का जवाब देती है।

परफार्मैंस से नहीं करना पड़ेगा समझौता

फिलहाल इस प्रोटोटाइप को छोटे रूप में बनाया गया है लेकिन शोधकत्र्ताओं का मानना है कि यह एल.ई.डी. डिस्प्ले अपने आप काम करेगी और इससे परफार्मैंस में भी किसी तरह का समझौता नहीं करना पड़ेगा। हालांकि शोधकर्त्ताओं का कहना है कि इस क्षेत्र में अभी और काम करने की जरूरत है।