कॉल ड्रॉप मामले को लेकर फिर आमने-सामने एयरटेल और रिलायंस जियो

Punjab Kesari

जालंधरः  दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो ने दावा किया कि एयरटेल द्वारा उसे नेटवर्क से उसकी कॉल जोड़ने की पर्याप्त सुविधा (प्वाइंट आफ इंटरकनेक्ट की सुविधा) नहीं उपलब्ध कराया है जिसके कारण उसके उपयोक्ताआें द्वारा की जाने वाली देश के अंदर लंबी दूरी की दैनिक 2.6 करोड़ यानि 53.4 प्रतिशत फोन कॉल विफल हो रही हैं।   कंपनी का कहना है कि ट्राई के नियमों के अनुसार यह कॉल ड्रॉप दर 0.5 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए।

मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलांयस जियो ने इसके साथ ही प्वाइंट आफ कनेक्शन (POI) के बारे में एयरटेल के दावे ‘भ्रमित’ करने वाला बताया है और कहा है कि वह मुद्दों से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है। उल्लेखनीय है कि कॉल कनेक्टिविटी को लेकर रिलायंस जियो व एयरटेल में विवाद चल रहा है। रिलायंस जियो ने एक बयान में दावा किया है कि उसके ग्राहकों की रोजाना 2.6 करोड़ से अधिक यानि 53.4 प्रतिशत एनएलडी कॉल (एक सर्किल से दूसरे सर्किल में की जाने वाली कॉल) लग नहीं पा रही हैं जो कि नियमानुसार तय सीमा से कहीं अधिक है।