मार्किट में दबदबा बनाने के लिए जियो दे रही है डाटा पर जोर

Punjab Kesari

जालंधरः फ्री कॉलिंग और अनलिमिटिड ऑफर के साथ टैलिकॉम मार्किट में उतरी रिलांयस जियो का इरादा देश के मोबाइल टेलिफोनी मार्केट के आधे हिस्से पर कब्जा करने का है। डाटा कंजंप्शन में बढ़ोतरी और बेहतर सर्विस क्वॉलिटी के जरिए वह ग्राहकों को अपने और आकर्षित कर सकती है। जियो ने ऐनालिस्ट्स को दिए गए प्रेजेंटेशन में कहा कि उसके मार्केट शेयर एक्सपैंशन प्लान में डाटा सबसे अहम है। टेलिकॉम कंपनी ने अपना फाइनैंशल टारगेट हासिल करने के लिए समयसीमा नहीं बताई लेकिन वह इस लक्ष्य को 2020-21 तक हासिल किए जाने की उम्मीद है।

दिसंबर क्वॉर्टर में टेलिकॉम मार्केट में भारती एयरटेल का मार्केट शेयर 33.1 फीसदी, वोडाफोन इंडिया का 23.5 फीसदी और आइडिया सेल्युलर का 18.7 फीसदी था। ब्रोकरेज फर्म HSBC के मुताबिक, इसके बाद टाटा टेलिसर्विसेज (टीटीएसएल), एयरसेल और रिलायंस कम्युनिकेशंस का नंबर था जिनका मार्केट शेयर क्रमश: 6.2 फीसदी, 5.5 फीसदी और 4 फीसदी रहा। इसी तरह दिसंबर क्वॉर्टर में भारती एयरटेल का एबिटडा मार्जिन 36.7 फीसदी और आइडिया सेल्युलर का यह आंकड़ा 25 फीसदी है। सितंबर तक 6 महीने के पीरियड के दौरान वोडाफोन का एबिटडा 29.6 फीसदी था। बता दें कि वोडाफोन इंडिया और आइडिया में मर्जर को लेकर बातचीत चल रही है।

डोएचे बैंक इक्विटी रिसर्च एशिया ने बताया, 'निवेशकों की उम्मीदों के उलट जियो का मानना है कि ARPU ग्रोथ के जरिए अगले 5 साल में इंडियन टेलिकॉम मार्केट की ग्रोथ 50 फीसदी रहेगी। जियो को डाटा यील्ड तकरीबन 50 GB के आसपास स्थिर होने की उम्मीद है। उनके मौजूदा प्लान के तहत यील्ड 30 GB है जिसके भविष्य में बढ़ने की उम्मीद है।' उसका कहना है कि भारत में टेलिकॉम इंडस्ट्री का कुल रेवेन्यू अगले 3-4 साल में 3 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगा।