प्ले स्टोर पर अपनी लोकप्रियता खो रहा है रिलायंस जियो

Punjab Kesari


जालंधर: मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली नई टैलीकॉम कंपनी रिलायंस जियो के मोबाईल एप्लीकेशन भारत में गूगल प्ले और एप्पल के स्टोरों पर अपनी लोकप्रियता को खो रहे है। लोगों द्वारा बड़ी संख्या में इसे पसंद न किए जाने से यह मोबाइल एप्लीकेशन्स का टॉप रैंकिंग में पहले रैंकों से निचली रैंकिंग पर हो गए हैं। भारत में माई जियो 5 सितम्बर को इसके कमर्शियल लांच से कुछ ही दिन बाद यह गूगल प्ले और एप्पल के एप्प स्टोरों पर सबसे अधिक डाऊनलोड किया जाने वाला एप बन गया था। इतना ही नहीं व्हाट्सएप्प और फेसबुक को भी पीछे छोड़ दिया था। 

जियो 4G डाऊनलोड स्पीड स्लो

जैसे ही रिलायंस जियो ने ये सुविधाएं शुरू की उसकी डाऊनलोड करने की 4G की स्पीड से बढ़ते हुए ट्रैफिक की समस्या के कारण स्लो हो गई। इस वर्ष अक्तूबर में ट्राई की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक एयरटैल, आइडिया सैल्यूलर और वोडाफोन के मुकाबले रिलायंस की 4G स्पीड काफी स्लो हो गई थी। 

उस समय अन्य कम्पनियों के मुकाबले में उतरे इस नई टैलीकॉम कंपनी के चेयरमैन मुकेश अम्बानी ने कहा ,‘‘डाटा अत्यधिक इस्तेमाल किए जाने से नैटवर्क बहुत ज्यादा व्यस्त हो गया था जिसने सारी व्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया।’’ उस समय जियो सर्विसिज लेने वाले लोग 20 पर्सैंट डाटा का इस्तेमाल कर रहे थे। यही वजह है कि जियो ने 1 GB पर रोजाना इस्तेमाल होने वाले डाटा को नववर्ष के ऑफर में सीमित कर दिया। यह सुविधा 1 जनवरी से समाप्त हो जाएगी।

डाटा 1 GB और स्पीड128 Kbps की

गत वीरवार को रिलायंस जियो ने इस 4-जी सर्विस में मुफ्त वॉयस और डाटा ऑफर को ग्राहकों के लिए 31 मार्च, 2017 तक बढ़ा दिया है। लेकिन, इसके साथ ही कंपनी ने पहले के 4GB डाटा की जगह डाटा 1GB कर दिया है, इसके साथ ही स्पीड भी घटा कर 128 Kbps कर दी है। वहीं रिलायंस जियो के फ्री ऑफरों को 31 मार्च, 2017 तक बढ़ाने से भारत के टैलाकॉम सैक्टर में प्राईज वार और तेज होने वाली है।

रिलायंस कर्मचारियों को दी सुविधाएं रोलआऊट

रिलायंस जियो ने टैस्ट लांच के समय अपने सभी कर्मचारियों को दी हुई इन सुविधाएं को रोलआऊट कर दिया है। इस वर्ष जब मई में रिलायंस एल.वाई.एफ. हैंडसैट उपलब्ध हुए तो इन सैट्स को खरीदने वाले लोगों को फ्री जियो एप्स सुविधाए दीं। फिर इसका विस्तार अन्य 4G स्मार्टफोनों में कर दिया और यूजर्स को 90 दिन की फ्री इस्तेमाल की सुविधा दी गई। हाल में साइबर मीडिया रिसर्च ने कहा था कि अपने इन एप्स के साथ जियो भारत में सबसे बड़ी कंपनी बन सकती है। इसमें भारत के बड़े-बड़े एप डिवैल्पर्स में जगह बनाने और यूजर्स की बड़ी संख्या जोडऩे की भी क्षमता रखता है।

एप्स स्टोरों पर रैकिंग नीचे की ओर

- कभी गूगल प्ले और एप्पल एप्प पर जियो सिनेमा ने तीसरे स्थान पर कब्जा जमाया हुआ था। इस समय यह पहले 10 रैंक से बाहर है।

- जियो टी.वी. जो कभी गूगल प्ले पर चौथे स्थान पर था, लुढ़क कर 8वें स्थान पर आ गया है और एप्पल के एप स्टोर पर 10वें रैंक पर ठहर गया है।

-  जियो नैट, जियो ज्वाइन, जियो बीट्स और जियो मैग्स इन सबकी हालत भी अच्छी नहीं रही है। ये गूगल प्ले और एप्पल के एप स्टोर पर सबसे अधिक पसंद किए जाने वाले 10 एप्स में से बाहर हो गए हैं। 

इस साल के सितम्बर माह में जैसे ही रिलायंस इंडस्ट्री लि. के चेयरमैन मुकेश अम्बानी ने रिलायंस के कम से कम 6 एप्स को 1 वर्ष के लिए मुफ्त में इस्तेमाल करने का ऑफर दिया, उसके 1 दिन बाद ही ये लोकप्रियता के चार्ट में सबसे ऊपर विराजमान हो गए थे। जियो ने अपने ग्राहकों के लिए वार्षिक 15000 रुपए मूल्य के सबस्क्रिप्शन को वर्ष 2017 तक मुफ्त कर दिया। साथ ही, उन्हें जीवनभर के लिए वॉयस कॉल्स की मुफ्त सुविधा भी दे दी।