वैज्ञानिकों ने खोजी नई तकनीक, गठिया ठीक करेगी यह खास चटाई

  • वैज्ञानिकों ने खोजी नई तकनीक, गठिया ठीक करेगी यह खास चटाई
You Are Heretechnology
Sunday, August 13, 2017-6:11 PM

जालंधर- अाज के समय में तकनीक इतनी उन्नत हो गई है कि हमारी रोजमर्रा की कई मुश्किले हल हो रही है। इसी के तहत आईआईटी गुवाहाटी के वैज्ञानिकों ने सिल्क-प्रोटीन एवं बायोऐक्टिव ग्लास फाइबर से बनी कृत्रिम चटाई तैयार की है और उनका मानना है कि यह चटाई हड्डी की कोशिकाओं में वृद्धि कर गठिया के रोगियों में घिस चुके उनके जोड़ों की हड्डियों की मरम्मत कर सकती है।


भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान गुवाहाटी (आईआईटीजी) से बिमान बी मंडल ने बताया, ‘‘मरम्मत प्रक्रिया में सहायक व्यवहार्य उत्तक विकल्प की कमी से वर्तमान में क्लिनिकल उपचार के तरीके सीमित हैं।’’

इसके अलावा बताया कि चटाई के लिये वैज्ञानिकों ने पूर्वोत्तर भारत में आसानी से मिलने वाले सिल्क के एक किस्म का इस्तेमाल किया.’’ उन्होंने बताया, ‘‘मूगा (असम) सिल्क में ऐसे गुण विद्यमान हैं जो रोग से निदान की प्रक्रिया में तेजी लाते है।’’ 


बता दें कि फिलहाल मरीजों तक इसकी पहुंच अासान करने से पहले अभी इस चटाई का चूहों या सुअरों जैसे उपयुक्त पशुओं पर परीक्षण किये जाने की आवश्यकता है और फिर अंत में इसका मानव पर प्रयोग किया जाएगा।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !