एक बार फिर गूगल प्ले स्टोर पर हुआ मालवेयर अटैक, इस तरह की एप्स से बचें

  • एक बार फिर गूगल प्ले स्टोर पर हुआ मालवेयर अटैक, इस तरह की एप्स से बचें
You Are HereTop Stories
Wednesday, May 16, 2018-10:16 AM

जालंधर : अगर आप एंड्रॉयड स्मार्टफोन का उपयोग करते हैं तो यह खबर आपके जुड़ी हुई है। गूगल प्ले स्टोर पर नाम बदलकर ऐसी एप्स को उपलब्ध किया गया है जिन्हें खतरनाक मानते हुए गूगल ने प्ले स्टोर से हटा दिया था। लेकिन एक बार फिर इन्हें यूजर्स तक पहुंचाया जा रहा है। अमरीकी एंटीवायरस कम्पनी सिमेंटिक (Symantec) ने अपनी रिसर्च में पता लगाया है कि यह मलिशियस एप्स अब नए पब्लिशर और नए नाम के साथ गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध हैं। इनके टाइटल को ऐसा रखा गया है कि यह गूगल की नजर से बची हुई हैं।

इस तरह की एप्स से बचें
इस मालवेयर का नाम Android.Reputation.1 है जिसके बारे में सबसे पहले वर्ष 2014 में पता लगाया गया था। यह मालवेयर इमोजी कीबोर्ड ऐड ऑन एप्स, कैलकुलेटर, कॉल रिकॉर्डर और स्टोरेज स्पेस क्लीनर के जरिए आपके स्मार्टफोन तक पहुंचाया जा रहा है।

PunjabKesari

सेक्योरिटी कम्पनी ने दिखाई रिपोर्ट
सिमैंटिक के प्रिंसिपल सॉफ्टवेयर इंजनियर Martin Zhang और टैक्विकल प्रोडक्ट ओनर Shaun Aimoto ने एक ब्लाग पोस्ट कर बताया है कि गूगल प्ले एप स्टोर सबसे ज्यादा रैपुटेशन वाला स्टोर हैं जहां से सुरक्षित एंड्रॉयड एप्स को डाउनलोड किया जा सकता है। हमने आज तक पहले भी ऐसी कई एप्स का सामना किया है जो यूजर से स्मार्टफोन का एक्सैस लेकर डाटा चुराती हैं, लेकिन अब इन 7 एप्स के सैट को गूगल द्वारा हटाने के बाद दोबारा से नए नाम के साथ उपलब्ध किया गया है।

PunjabKesari
इस तरह यूजर को नुक्सान पहुंचा रही एप्स
ये ऐड्स और घोटाले से जुड़ें लिंक्स पर क्लिक करने का सुझाव देने लगती हैं। इन एप्स को इंस्टाल करने के बाद यह डिवाइस को मॉनीटर करती हैं और गूगल प्ले आईकन पर टैप करने के बाद एडमिन परमिशमन की रिक्वैस्ट करती हैं।

इसी महीने की शुरूआत में भी हुआ था अटैक
इस महीनें की शुरूआत में सिमेंटिक (Symantec) ने 38 मलेशियस एप्स का पता लगाया था जो गूगल प्ले स्टोर पर Android.Reputation.1 Trojan से प्रभावित थीं। इनमें गेम्स और ऐजुकेशन से जुड़ी जानकारी दिखाने वाली एप्स शामिल थीं। ये एप्स यूजर के होमस्क्रीन आईकन्स को रिमूव कर रही थीं। 

PunjabKesari

मालवेयर अटैक से बचने के लिए उपयोग करें ये तरीके 

  • रिसर्चर्स ने यूजर्स को हिदायत देते हुए कहा है कि मालवेयर अटैक से बचने के लिए यूजर को स्मार्टफोन का सॉफ्टवेयर अप टूडेट रखना चाहिए।
  • जिन साइट्स या कम्पनियों का नाम यूजर ने पहले कभी नहीं सुना है उनके सॉफ्टवेयर को डाउनलोड नहीं करना चाहिए। सिर्फ विश्वास करने योग्य पब्लिशर्स के ही एप्स इंस्टाल करने चाहिएं।
  • एप्स की परमिशन रिक्वैस्ट आने पर एक बार जरूर सोचना चाहिए और अगर एप को आपने शौकिया तौर पर इंस्टाल किया है तो इस रिक्वैस्ट को डिनाई कर देना चाहिए। 
  • मोबाइक सेक्योरिटी एप को इंस्टाल करने की भी हिदायत दी गई है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!