अमेरिकी तकनीक का अब इस्तेमाल नहीं कर पाएगी HUAWEI, लगाए गए नए प्रतिबंध

  • अमेरिकी तकनीक का अब इस्तेमाल नहीं कर पाएगी HUAWEI, लगाए गए नए प्रतिबंध
You Are HereGadgets
Saturday, May 16, 2020-4:06 PM

गैजेट डैस्क: अमेरिकी सरकार ने चीन की टेक्नोलॉजी कम्पनी हुआवेई के प्रति कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को नए प्रतिबंध लगा दिए हैं जिसके तहत हुआवेई अब अमेरिकी टेक्नोलॉजी और सॉफ्टवेयर्स का इस्तेमाल नहीं कर सकेगी। नए रूल्स सितंबर से लागू होंगे। नए रूल्स में पूरी दुनिया की कम्पनियों को अमेरिकी मशीनरी और सॉफ्टवेयर का उपयोग कर हुआवेई के लिए चिप्स बनाने पर प्रतिबंध लगाया गया है। वहीं अगर कोई कम्पनी इसे बनाना चाहती है तो उसे अमेरिकी एडमिनिस्ट्रेशन से अपने इन प्रोडक्ट्स को बेचने के लिए लाइसेंस लेना होगा।

बढ़ सकता है अमेरिका-चीन विवाद

इस निर्णय के बाद उद्योग विकास और सुरक्षा के मुद्दे पर अमेरिका-चीन विवाद और बढ़ सकता है। अमेरिका के कमर्स मनिस्टर विल्बर रॉस ने शुक्रवार को कहा कि हुआवेई पर विदेशों में सेमीकंडक्टर के डिजाइन और उत्पादन के लिए अमेरिकी टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल को लेकर पूर्व में प्रतिबंध लगाए गए थे। अमेरिका चाहता है कि हुआवेई पूर्व में लगाए गए अंकुशों से बच न पाए।

रॉस ने ‘फॉक्स बिजनेस' से कहा कि एक काफी उच्चस्तर की तकनीकी खामी है जिसके जरिये हुआवेई अमेरिकी टेक्नोलॉजी को प्रभावित करने में सफल रही है। 

आपको बता दें कि हुआवेई टेक्नोलॉजीज़ चीन का पहला ग्लोबल टेक्नोलॉजी ब्रांड है और यह कम्पनी नेटवर्क उपकरण तथा स्मार्टफोन बनाती है।

क्या था पूरा मामला

हुआवेई के प्रति रिस्ट्रिक्शन लगाने का सिलसिला पिछले साल मई में शुरू हुआ जब अमेरिका ने हुआवेई को एक ऐसी लिस्ट में डाल दिया, जिनके लिए अमेरिकी प्रोडक्स को एक्सपोर्ट नहीं किया जाएगा। हुआवेई के अलावा 114 अन्य कम्पनियों को भी इस लिस्ट में जोड़ा गया। इसके बाद हुआवेई ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिकी चिप निर्माता क्वॉलकोम पर अपनी निर्भरता को कम कर लिया और अपनी खुद की प्रोसैसर चिप तैयार कर ली। सिर्फ इतना ही नहीं चीन में HiSilicon नाम की कम्पनी खड़ी कर ली गई जोकि अब प्रोसैसर तैयार करती है। इसके बाद हालात अब यह हो गए हैं कि हुआवेई अमरीकी तकनीक का इस्तेमाल आने वाले समय में नहीं कर सकेगी।

अमेरिका-चीन विवाद का प्रमुख मुद्दा है हुआवेई

हुआवेई अमेरिका-चीन विवाद का प्रमुख मुद्दा है। अमेरिकी अधिकारी कहते रहे हैं कि हुआवेई सुरक्षा के लिए खतरा है। हालांकि, कम्पनी ने इन आरोपों को नकारा है। वहीं चीन का कहना है कि अमेरिका सुरक्षा चेतावनियों का दुरुपयोग कर रहा है और अमेरिकी टेक्नोलॉजी कंपनियों लिए चुनौती बन रही हुआवेई को नुकसान पहुंचाना चाहता है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Latest News

Popular News