Tesla के दीवानों के लिए बुरी खबर: भारत में फिलहाल एलन मस्क की टेस्ला की एंट्री नहीं, ये है बड़ी वजह

  • Tesla के दीवानों के लिए बुरी खबर: भारत में फिलहाल एलन मस्क की टेस्ला की एंट्री नहीं, ये है बड़ी वजह
You Are HereGadgets
Sunday, May 15, 2022-2:36 PM

ऑटो डेस्क: इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी Tesla ने भारत में इलेक्ट्रिक कारों को बेचने के प्लान पर फिलहाल रोक लगा दी है। कंपनी ने इंडिया में अपनी कारों के शोरूम के लिए जगह तलाशना बंद कर दिया है।  इसके अलावा भारत में काम कर रही टीम को दूसरी जिम्मेदारियां सौंप दी हैं। इस मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि कंपनी ने भारत में एंट्री को प्लानिंग को होल्ड कर दिया है। यह फैसला सरकार के प्रतिनिधियों के साथ गतिरोध के एक वर्ष से अधिक समय तक चलने के बाद लिया गया है।

PunjabKesari

 

टेस्ला लंबे समय से भारत सरकार से इलेक्ट्रिक कारों पर इंपोर्ट ड्यूटी कम करने की मांग कर रही थी। टेस्ला ने अमेरिका और चीन में स्थित प्रोडक्शन प्लांट से इंपोर्ट इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) को कम टैरिफ पर बेचकर पहले टेस्टिंग की मांग की थी लेकिन भारत सरकार टैरिफ कम करने से पहले टेस्ला को स्थानीय स्तर पर प्रोडक्शन करने के लिए कह रही थी। बता दें कि भारत में इंपोर्टड कारों पर 100% तक टैक्स लगता है।

 

PunjabKesari

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार Tesla ने 1 फरवरी की समय सीमा तय की थी जिस दिन भारत ने अपने बजट का खुलासा किया था और टैक्स परिवर्तनों की घोषणा की थी। कंपनी की भारत योजना से जुड़े सूत्रों ने रॉयटर्स को बताया कि जब केंद्र सरकार ने टेस्ला को कारों को इंपोर्ट करने पर रियायत देने की पेशकश नहीं की तो टेस्ला ने भारत में कारों के आयात की योजना को रोक दिया। इससे पहले महीनों तक टेस्ला ने प्रमुख भारतीय शहरों में शोरूम और सर्विस सेंटर खोलने के लिए जगह की तलाश कर रहा थी।

PunjabKesari


हाल ही में जनवरी में Tesla के सीईओ एलन मस्क ने कहा था कि टेस्ला भारत में बिक्री के संबंध में अभी भी सरकार के साथ बहुत सारी चुनौतियों का सामना कर रही है लेकिन सूत्रों ने कहा कि टेस्ला के वाहनों की किसी और बाजार में मजबूत मांग और भारत में आयात करों पर गतिरोध ने रणनीति में बदलाव को प्रेरित किया है। 

PunjabKesari

पीएम मोदी ने मेक इन इंडिया अभियान के साथ निर्माताओं को लुभाने की कोशिश की है। लेकिन परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने अप्रैल में कहा था कि टेस्ला के लिए चीन से भारत में कारों का आयात करना "अच्छा प्रस्ताव" नहीं होगा। भारत ने इस मुद्दे पर जनवरी में ही जीत हासिल कर ली थी जब जर्मन लग्जरी कार निर्माता मर्सिडीज-बेंज ने कहा कि वह भारत में अपनी एक इलेक्ट्रिक कार को असेंबल करना शुरू कर देगी।


टेस्ला पहले इलेक्ट्रिक कारों के लिए इंडियन मार्कट को छोटे लेकिन उभरते हुए बाजार के तौर पर देख रहा था हालांकि इस सेगमेंट में इंडियन  कार निर्माता टाटा का पहले से ही कब्जा है। इसके अलावा टेस्ला की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक कार की कीमत करीब 31 लाखसे शुरू होती है जो इसे भारतीय बाजार में लग्जरी सेगमेंट में डाल देगी। इस सेगमेंट की बिक्री करीब 30 लाख की वार्षिक वाहन बिक्री का एक मामूली सा हिस्सा है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Smita Sharma