70 प्रतिशत होटल वैबसाइट्स लीक कर रहीं यूजर्स का निजी डाटा!

  • 70 प्रतिशत होटल वैबसाइट्स लीक कर रहीं यूजर्स का निजी डाटा!
You Are HereTop Stories
Thursday, April 11, 2019-6:14 PM

- स्टडी से सामने आए चौंका देने वाले रिजल्ट्स

गैजेट डैस्क : यूजर्स का डाटा लीक होने को लेकर एक ऐसी खबर सामने आई है जिसे पढ़ कर आप चौंक जाएंगे। होटल में कमरा बुक करने के बाद जो आपको कन्फ़र्मेशन ईमेल मिलता है इसके जरिए आपका निजी डाटा लीक हो रहा है। अमरीकी सॉफ्टवेयर निर्माता कम्पनी सिमेंटेक (Symantec) ने 1,500 होटल्स पर स्टडी कर पता लगाया है कि 67 प्रतिशत होटल्स मेहमानों की व्यक्तिगत जानकारी को अनजाने में लीक कर रहे हैं, जोकि गलत है। 

स्टडी में शामिल किए गए 54 देशों के होटल्स

एनगैजेट की रिपोर्ट के मुताबिक इस स्टडी में 54 देशों के होटलों को शामिल किया गया है जिनमें अमरीका, कनाडा और यहां तक की यूरोपीय संघ भी शामिल हैं। हैरानी की बात तो यह है कि सख्त जीडीपीआर सुरक्षा (जनरल डाटा प्रोटेक्शन रेगुलेशन) होने के बावजूद ऐसा हो रहा है। वहीं 2 स्टार होटल्स से लेकर 5 स्टार बीच रिजोर्ट्स तक ग्राहकों का निजी डाटा खतरे में डाल रहे हैं। 

PunjabKesari

इस तरह यूजर के निजी डाटा को चुरा रहे अटैकर

बुकिंग कनफर्मेशन्स के दौरान भेजी गई इमेल के जरिए यूजर के डाटा पर नियंत्रण किया जा रहा है। सॉफ्टवेयर निर्माता कम्पनी सिमेंटेक के थ्रैट रिसर्चर Candid Wueest ने बताया है कि बहुत से बुकिंग कन्फरमेशन मैसेजिस में एक्टिव लिंक दिया जाता है जिस पर क्लिक करने पर यूजर किसी अन्य वैबसाइट पर चला जाता है, जिसमें गैस्ट को एक बार फिर लॉग इन करने की जरूरत पड़ती है। इसके बाद उसे रेजरवेशन से जिड़ी जानकारी दिखती है।

  • कई व्यवसायों की तरह होटल्स आपके पर्सनल डाटा को थर्ड पार्टी कम्पनियों के साथ शेयर करते हैं यानी आपका बुकिंग कोड और इमेल भी उन्हें दिखता है। इसके बाद अटैकर आपके बुकिंग कोड और इमेल के जरिए आपका अड्रैस, पूरा नाम, मोबाइल नम्बर, पासपोर्ट नम्बर और अन्य अति संवेदनशील जानकारी को चुरा लेते हैं। 

PunjabKesari

एन्क्रिप्टेड नहीं है लिंक्स

सिमेंटेक कम्पनी ने बताया है कि कुछ होटल्स ने तो कन्फरमेशन इमेल में दिए जा रहे इन लिंक्स को एनक्रिप्ट तक नहीं किया है जिससे अटैकर को आपकी जानकारी जुटाने में और भी आसानी होती है। फिलहाल सिमेंटेक ने होटलों के नाम को लेकर जानकारी सर्वजनिक नहीं की है, लेकिन रिसर्चर Candid Wueest ने इतना जरूर बताया है कि उन्होंने 45 अलग-अलग वैबसाइट्स को चैक किया है जिनमें छोटे होटलों से लेकर होटलों की बड़ी चेन्स तक शामिल हैं। सैकड़ों स्थानों पर हो रहे सर्वे में 1500 होटलों को कवर किया गया। 

इस तरह आप कर सकते हैं अपने निजी डाटा की रक्षा 

  1. सिमेंटेक ने सलाह देते हुए कहा है कि लोग पब्लिक WiFi के जरिए होटल रेजर्वेशन ना करें और इसके लिए हमेशा वर्चुअल प्राइवेट नैटवर्क (VPN) का ही इस्तेमाल करें। 
  2. बुकिंग कन्फर्मेशन इमेल्स में लिंक पर क्लिक करने के बाद इसके URL को देखें। अगर इसमें आपकी बुकिंग डिटेल्स शो हो रही हैं तो आप इस सुरक्षा दोष से प्रभावित हो गए हैं और आपकी डिटेल्स लीक हो गई है। इसके बाद आप संबंधित कम्पनी से बात करें।

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh