छात्रों ने विकसित की साइबर सुरक्षा ऐप, शिकायत दर्ज कराने में मिलेगी मदद

  • छात्रों ने विकसित की साइबर सुरक्षा ऐप, शिकायत दर्ज कराने में मिलेगी मदद
You Are HereApps
Monday, November 22, 2021-6:33 PM

गैजेट डेस्क: के.एल. यूनिवर्सिटी ने आज घोषणा की है, कि उसके एक छात्र ने शिकायत दर्ज कराने के लिए ई-कंप्लेंट फाइलिंग के अलावा साइबर इंटर्नशिप, साइबर परामर्श जैसी ढेर सारी सुविधाओं से सुसज्जित एक 'साइबर सुरक्षा ऐप' बनाई है। इसके अलावा, यह पहली ऐसी साइबर अलर्ट ऐप है, जो अंग्रेज़ी और तेलुगु भाषाओं में उपलब्ध होगी। आज के दौर में डिजिटल सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तैयार किया गई यह अनोखी ऐप सरल एवं सुविधाजनक होने के साथ-साथ साइबर खतरे से सुरक्षा के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

महामारी की शुरुआत के बाद से ही भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में साइबर हमलों और इंटरनेट से जुड़े खतरों के मामलों में काफी वृद्धि हुई है। साल 2021 में डिजिटल माध्यमों से काम करने वाले लोगों एवं छात्रों की संख्या बढ़ने के साथ ही इन हमलों की गुंजाइश भी कई गुना बढ़ गई।

कैस्पर्सकी सिक्योरिटी नेटवर्क (KSN) की हाल में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, साल 2021 की दूसरी तिमाही में भारत में साइबर खतरे से जुड़े 8.30 करोड़ मामले दर्ज किए गए, जो पिछले साल की इसी तिमाही में दर्ज किए गए 1.67 करोड़ खतरों से 80% अधिक है। साइबर धोखाधड़ी और साइबर सुरक्षा से जुड़े खतरों में बढ़ोतरी को देखते हुए, साइबर अपराध के बारे में जानकारी के व्यापक स्रोत के साथ-साथ ऐसे अपराधों से बचाव के उपायों की आवश्यकता है।

के.एल. डीम्ड-टू-बी यूनिवर्सिटी में कॉलेज ऑफ लॉ में बीबीए, एलएलबी में अपनी स्नातक की डिग्री के अंतिम वर्ष के छात्र, डी. राहुल शशांक ने महामारी के दौरान इसकी आवश्यकता को जल्दी ही पहचान लिया। उन्होंने उपयोगकर्ताओं को डिजिटल पहचान की सुरक्षा के हर चरण में सहायता करने के लिए साइबर अलर्ट ऐप विकसित की है।

यह ऐप उपयोगकर्ताओं को साइबर धोखाधड़ी का शिकार बनने से पहले ही उन्हें खतरे की सूचना देती है। जानकारी, मार्गदर्शन और समाधान को अच्छी तरह मिलाकर तैयार किए गए इस साइबर अलर्ट ऐप में कई विशेषताएं हैं, जो उपयोगकर्ता को साइबर अपराध को अच्छी तरह समझने में मदद करते हैं तथा इससे निपटने के तरीके भी बताते हैं। इस की कुछ प्रमुख विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  1. साइबर अपराध की शिकायतें दर्ज करने की सुविधा– उपयोगकर्ता ई-फाइलिंग लिंक के माध्यम से साइबर अपराध की शिकायत दर्ज कर सकते हैं, और इसके आवेदन में अस्वीकरण भी मौजूद होता है।
  2. साइबर शिकायतों की निगरानी / वर्तमान स्थिति को जानने की सुविधा– कोई भी व्यक्ति इस एप्लीकेशन के जरिए दर्ज किए गए शिकायतों की स्थिति की जांच कर सकता है।
  3. साइबर क्षेत्र से जुड़ी जानकारी – इस ऐप पर उपयोगकर्ताओं के लिए साइबर सुरक्षा और साइबर कानून से जुड़ी अध्ययन सामग्री, आई.टी. अधिनियम 2000 और आई.टी. अधिनियम 2008, साइबर फॉर्म और साइबर सुरक्षा से संबंधित नवीनतम खबरें, इत्यादि उपलब्ध होंगे।
  4. साइबर पुलिस स्टेशन – इस ऐप पर साइबर पुलिस थानों की सूची उपलब्ध होगी, तथा उपयोग करता अपने फोन में जी.पी.एस. / लोकेशन को इनेबल करके अपने नजदीकी साइबर पुलिस स्टेशन का पता लगा सकते हैं।
  5. साइबर इंटर्नशिप – इस ऐप पर साइबर सुरक्षा में इंटर्नशिप और वर्कशॉप और उन में भाग लेने से संबंधित सर्वोत्तम जानकारी उपलब्ध हैं।
  6. साइबर कानूनी सहायता – साइबर कानूनी सहायता को दो उप-मॉड्यूल, यानी साइबर विशेषज्ञ परामर्श और साइबर स्वयंसेवक में विभाजित किया गया है।

 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Popular News