फेसबुक ने कर दिया EU को डेटा एक्सैस करने से ब्लॉक, क्या अब बढ़ने वाली हैं कंपनी की मुश्किलें

  • फेसबुक ने कर दिया EU को डेटा एक्सैस करने से ब्लॉक, क्या अब बढ़ने वाली हैं कंपनी की मुश्किलें
You Are HereGadgets
Tuesday, July 28, 2020-7:03 PM

गैजेट डैस्क: फेसबुक ने यूरोपियन कमीशन को डेटा एक्सेस करने से टेम्परेरी तौर पर ब्लॉक कर दिया है। फेसबुक का मानना है कि किसी भी तरह के डॉक्यूमेंट्स और उनके कर्मचारी की हाइली सेंस्टिव पर्सनल इनफोर्मेशन को यूरोपियन कमीशन एक्सैस नहीं कर सकता है, इसीलिए ऐसा किया गया है। आपको बता दें कि यूरोपियन कमीशन की ब्रांच ने फेसबुक से कुछ इंफॉर्मेशन को लेकर रिक्वेस्ट की थी क्योंकि उन्हें लगता है कि फेसबुक कई विरोधी प्रतिस्पर्धी प्रथाओं (एंटी कंपीटिटिव प्रैक्टिस) में उलझी हुई है।

 

फेसबुक का बयान

फेसबुक के डायरेक्टर और एसोसिएट जनरल काउंसिल फॉर कंपटीशन टिम लैंब ने कहा कि "वह किसी भी तरह की इन्वेस्टिगेशन को लेकर कॉप्रेट करेंगे, लेकिन वह सैकड़ों हजारों डाक्यूमेट्स को सौंपने के लिए अभी तैयार नहीं हैं।" BBC ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि "कमिशन ने फेसबुक से 2500 विशिष्ट वाक्यांश (स्पैसिफिक फ्रेज़) की मांग की है जिनमें बहुत ही बड़े-बड़े सवाल, शटडाउन से जुड़े प्रश्न और हमारे लिए क्या अच्छा नहीं है, ऐसे सवाल पूछे गए हैं।  टिम लैंब का कहना है कि वे अपने कर्मियों की मेडिकल हिस्ट्री और उनके फैमिली मेंबर्स का डेटा देने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने कहा है कि वे EU कोर्ट को फिर से रिक्वेस्ट करते हैं कि यूरोपीय संघ के न्यायालयों द्वारा एक बार फिर समीक्षा की जानी चाहिए।

 

क्या फेसबुक का दावा है झूठा

CNBC ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि फेसबुक पहले से ही 315000 डॉक्यूमैंट्स कमिशन को दे चुकी है जिनमें 17 लाख पेजिस हैं। इसके अलावा फेसबुक ने मुद्दे से अनरिलेटिड डॉक्यूमेंट्स भी उन्हें दिए हैं, लेकिन इनवैस्टिगेशन टीम का कहना है कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है।

 

क्या है पूरा मामला

फेसबुक ने यूरोपियन यूनियन मैनेज्ड कोर्ट में एक कंपलेट दी थी, इसके परिणाम में अभी कोर्ट फेसबुक के दाखिलों पर विचार कर ही रही थी कि कंपनी ने कोर्ट को अपना डाटा एक्सैस करने से टैम्परेरी तौर पर मना कर दिया है। इससे जुकरबर्ग की कंपनी जीत नहीं गई, बल्कि अब यूरोपियन कमिशन इस पर अपनी कार्रवाई भी कर सकता है।

दिसंबर में यूरोपीय आयोग ने फेसबुक की बिजनेस प्रैक्टिसिस को लेकर एक इनवैस्टिगेशन शुरू की थी। इसमें फेसबुक से पूछा गया था कि कंपनी कैसे लोगों के डेटा को प्रोसैस करती है और यूज करती है। एडवर्टाइजमेंट के लिए इस डेटा का कैसे उपयोग होता है यह भी पूछा गया था।

पता चला था कि फेसबुक कुछ डिवैल्पर्स को छोड़ कर अन्य के साथ डाटा एक्सैस कर रही है। इसके बाद फेसबुक से बहुत से डाक्यूमेंट्स की मांग की गई थी। फेसबुक ने एनगैजेट को बताया कि वे डाक्यूमेंट्स देगी लेकिन इसके लिए कोई तरीका होना चाहिए।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Popular News