Netflix कैसे कर रहा है भारत के केबल टीवी ऑपरेटर्स का खेल ख़राब

  • Netflix कैसे कर रहा है भारत के केबल टीवी ऑपरेटर्स का खेल ख़राब
You Are HereGadgets
Sunday, August 25, 2019-12:17 PM

गैजेट डेस्क : नेटफ्लिक्स और उसके जैसे दूसरे OTT सर्विस प्लेटफॉर्म जितना फेमस लोगों को बीच हो रहा है उसकी सफलता के चलते उतना ही नुक्सान देश के केबल टीवी ऑपरेटर्स को हो रहा है। KPMG की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि वित्तीय वर्ष 2019 में केबल और सेटेलाइट के करीब 1.2-1.5 करोड़ एक्टिव यूज़र्स की कमी आई है। बता दें कि वित्तीय वर्ष 2019 OTT प्लेटफॉर्म्स की ग्रोथ रेट 8.1 रही जिससे कुल अमाउंट 463 करोड़ का रहा। 

 

KPMG की रिपोर्ट है अहम  

 

 


KPMG ने 'India's Digital Future : Mass And Niches' नामक अपनी रिसर्च रिपोर्ट में बताया कि साल 2018 के अंत तक सीएंडएस कस्टमर्स की संख्या 19.7 करोड़ तक पहुँच गई लेकिन इसमें अधिकतर ग्राहक डिजिटल केबल के थे। हालाँकि पिछले क्वार्टर में 1.2-1.5 करोड़ यूज़र्स की गिरावट दर्ज़ की गई थी।  


ग्राहकों की इस संख्या में गिरावट का मुख्य कारण ग्राहकों द्वारा केबल का रिन्यूअल नहीं करना, ओटीटी जैसे मनोरंजन के अन्य प्लेटफॉर्म की तरफ बढ़ता रुझान और नए टैरिफ ऑर्डर (एनटीओ) के कारण शुल्क में वृद्धि है।

 

Related image

इसके नतीजतन पिछली तिमाही में केबल टीवी राजस्व में गिरावट आई और इसके ग्राहक उच्च केबल बिलों के कारण ओटीटी प्लेटफॉर्म्स की तरफ जा रहे हैं”। पहली तीन तिमाहियों में डीटीएच और केबल ऑपरेटरों दोनों के लिए औसत एवरेज रेवेन्यू पर यूज़र (ARPU) स्थिर रहा जबकि पिछली तिमाही में इसमें 10 से 25 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

 


टेलिकॉम सेक्टर में Jio की एंट्री के साथ डेटा की कीमत में काफी कमी आई है। अब कंपनी ब्रॉडबैंड क्षेत्र में भी कदम रख रही है। ऐसी स्थिति में टीवी केबल देखने वाले ग्राहकों की संख्या में और कमी हो सकती है। डेटा सस्ता होने से, अब यूज़र्स अपने स्मार्टफ़ोन पर ऑनलाइन कंटेंट डाउनलोड कर रहे हैं जिसके कारण केबल के प्रति झुकाव कम होता जा रहा है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Harsh Pandey