डिजिटलाइजेशन को लेकर भारत ने चीन को छोड़ा पीछे, 100 गुना बढ़ी डेटा की खपत

  • डिजिटलाइजेशन को लेकर भारत ने चीन को छोड़ा पीछे, 100 गुना बढ़ी डेटा की खपत
You Are HereGadgets
Saturday, April 13, 2019-4:04 PM

गैजेट डैस्कः मैकेंजी की एक हालिया स्टडी ये बात सामने आई है कि डिजिटलाइजेशन के मामले में भारत ने चीन को भी पीछे छोड़ दिया है । डिजिटल इंडिया-टेक्नॉलजी टू ट्रांसफॉर्म ए कनेक्टेड नेशन' शीर्षक वाली इस स्टडी में कहा गया है कि डिजिटल अडॉप्शन इंडेक्स में ग्रोथ के मामले में भारत की रफ्तार चीन से दोगुनी हो गई है। स्टडी के मुताबिक, 2014 से डिजिटल अडॉप्शन इंडेक्स में भारत की ग्रोथ 90 फीसदी रही है। वहीं, चीन की ग्रोथ भारत की आधी यानी 45 फीसदी रही है। इस इंडेक्स में ग्रोथ के मामले में रूस और जर्मनी जैसे देश भी भारत से पीछे रहे हैं। स्टडी में कहा गया है कि डेटा सस्ता होने के कारण भारत में डेटा की खपत करीब 100 गुना बढ़ी है।
PunjabKesari
मैकेंजी की स्टडी में बताया गया है कि 2014 में भारत में इंटरनेट यूजर्स की कुल संख्या 23.9 करोड़ थी, जो कि 2018 में बढ़कर दोगुनी से ज्यादा 56 करोड़ हो गई है। 2014 में जहां एक व्यक्ति साल में 2.2 कैशलेस ट्रांजैक्शन करता था, 2018 में यह बढ़कर 18 पर पहुंच गया है। इसके अलावा, 2014 में प्रति 100 व्यक्ति पर स्मार्टफोन की संख्या 5.4 थी, जो कि 2018 में बढ़कर 26.2 हो गई है। 2014 में प्रति यूनीक कनेक्शन महीने में डेटा की खपत 86MB थी, जो कि 2018 में बढ़कर 8,320 MB हो गई है।
PunjabKesari
दिसंबर 2014 में भारत में प्रति 100 व्यक्ति पर स्मार्टफोन की संख्या 5.5 थी, जो कि दिसंबर 2018 में बढ़कर 26.2 पर पहुंच गई है। इसमें करीब 5 गुना की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। प्रति 100 व्यक्ति में स्मार्टफोन की संख्या के मामले में स्वीडन सबसे आगे है, जहां 2017 में प्रति 100 व्यक्ति में स्मार्टफोन की संख्या 95.8 थी। दिसंबर 2014 में हर महीने प्रत्येक व्यक्ति करीब 0.09GB डेटा का इस्तेमाल करता था, जो कि सितंबर 2018 में 8.3GB पहुंच गया है। फिनलैंड इस मामले में सबसे आगे है, जहां दिसंबर 2017 में हर महीने प्रत्येक व्यक्ति ने 15.5 GB डेटा का इस्तेमाल किया।
PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Isha