Maruti Suzuki ने ऑटो कॉम्पोनेन्ट इंडस्ट्री से कहा : ""भारत में ही इलेक्ट्रॉनिक एवं मुख्य पार्ट्स का करें उत्पादन""

  • Maruti Suzuki ने ऑटो कॉम्पोनेन्ट इंडस्ट्री से कहा :
You Are HereGadgets
Saturday, September 7, 2019-6:09 PM

ऑटो डेस्क : देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया ने शुक्रवार को ऑटो कॉम्पोनेन्ट इंडस्ट्री से ऐसे पार्ट्स के आयात में कटौती करने के लिए भारत में वाहन इलेक्ट्रॉनिक्स और कुछ प्रमुख भागों का उत्पादन शुरू करने को कहा है। ऐसे ऑटो पार्ट्स के स्थानीय विनिर्माण से न केवल मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) को मदद मिलेगी, बल्कि सरकार की मेक इन इंडिया पहल को भी समर्थन मिलेगा। 


मारुती सुजुकी के एमडी और सीईओ केनिची आयुकावा ने  ACMA वार्षिक सम्मेलन में बोलते हुए कहा- "मेरे पास एक चुनौती है और आपको (कॉम्पोनेन्ट इंडस्ट्री) की उसका सामने करने का यह खुला निमंत्रण है। एमएसआई कार 90 प्रतिशत से अधिक स्थानीय कॉम्पोनेन्ट पर आधारित है लेकिन कुछ प्रमुख भाग और इलेक्ट्रॉनिक्स ऐसे क्षेत्र हैं, जहां हमें अभी भी आयात करने की आवश्यकता  है लेकिन हम चाहते हैं यह भी मेक इन इंडिया के दायरे में आये" आयुकावा ने कहा।


 

Maruti Suzuki के एमडी आयुकावा की अपील है मानने लायक 

 

 

 

अगर कोई भी गुणवत्ता और विश्वसनीयता के साथ भारत में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और कुछ मुख्य पार्ट्स को बना सकता है, तो इससे न केवल मारुती सुजुकी बल्कि पूरे भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग को मदद मिलेगी। आयुकावा ने कहा कि भविष्य में जीतने का सबसे अच्छा अवसर इन-हाउस रिसर्च एंड डेवलपमेंट (आरएंडडी) क्षमता विकसित करने में निहित है। "अगर भारत को कल की दुनिया में प्रतिस्पर्धी होना है, तो मेरा संदेश है - घर में रिसर्च एंड डेवलपमेंट क्षमता विकसित करना शुरू करें ... (जो) एक बहुत लंबी खींची गई प्रक्रिया है और परिणाम धीरे-धीरे आते हैं। हमें धैर्य रखना होगा और प्रतिबद्ध रहना होगा। ," उन्होंने जोड़ते हुए कहा।

 

Related image

 

सरकार की नीति पर आयुकावा ने कहा कि यदि सरकार अंतिम लक्ष्यों पर लक्ष्य निर्धारित करती है और उद्योग के खिलाड़ियों को प्रौद्योगिकी का चयन करने की स्वतंत्रता देती है तो यह अंतिम लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सबसे उपयुक्त होगा।

 

"इस तरह के प्रौद्योगिकी-अज्ञेयवादी दृष्टिकोण को लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करते हुए, प्रौद्योगिकी-पसंद की स्वतंत्रता देगा," उन्होंने कहा। अयुकावा ने ऑटो घटकों की गुणवत्ता निर्माण के गुणों पर भी जोर दिया। यदि ऑटो कॉम्पोनेन्ट इंडस्ट्री ने आयुकावा की बात पर अमल किया तो न सिर्फ दाम घटेंगे बल्कि ऑटोमोबाइल के प्रोडक्शन में भी स्थिरता लाई जा सकती है। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Harsh Pandey