भारत में लाखों ATM धारकों पर मंडरा रहा खतरा, हो सकता है मालवेयर अटैक

  • भारत में लाखों ATM धारकों पर मंडरा रहा खतरा, हो सकता है मालवेयर अटैक
You Are HereGadgets
Wednesday, September 25, 2019-4:12 PM

गैजेट डैस्क : ATM का इस्तेमाल करने वाले लोगों को अब काफी सावधानी बरतने की जरूरत है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि उत्तर कोरिया अपने एक मैलवेयर (वायरस) के जरिए भारत में ATM सिस्टम्स को प्रभावित कर रहा है, जिसके बाद सिस्टम में डाले गए कार्ड से डाटा रिकॉर्ड और चोरी किया जा सकता है। 

  • इस ATMDtrack मालवेयर के बारे में सबसे पहले जानकारी कैस्परस्काई ग्लोबल रिसर्च एंड एनालिसिस टीम के सिक्योरिटी रिसर्चर कोन्स्टान्टिन जायकोव द्वारा दी गई है। उन्होंने अपने बयान में कहा है कि भारतीय एटीएम यूजर्स पर यह अटैक लजारस (Lazarus) ग्रुप द्वारा किया जा रहा है जिसका मकसद डाटा चुराना है। कैस्परस्काई ने चेतावनी दी है कि सामने आया मैलवेयर अब भी ऐक्टिव है और साइबर अटैक्स में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • आपको बता दें कि लजारस (Lazarus) ग्रुप का नाम सबसे पहले वर्ष 2014 में सामने आया था, जब इस ग्रुप ने सोनी पिक्चर्स इंटरनटेनमेंट पर मैलवेयर अटैक किया था। इसके अलावा इस ग्रुप ने साल 2016 में अनरीका और ब्रिटेन सहित कई देशों में रैंसमवेयर अटैक भी किए थे। 

PunjabKesari

कैसे काम करता है यह मालवेयर

कैस्परस्काई के रिसर्चर्स ने बताया है कि ATMDtrack मैलवेयर एक बैंकिंग मैलवेयर है, जोकि कार्ड और पिन की जानकारी रिकॉर्ड करता है। यानी इसके जरिए पता लगाया जा सकता है कि आपने एटीएम मशीन में कब और कौन-सा पिन डाला है। उसके बाद हैकर बैंक खाते से पैसे गायब कर सकते हैं। यह मैलवेयर रिमोटली काम करता है यानी इसके लिए हैकर दूर से ही आपके एटीएम को कंट्रोल कर सकता है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh