Instagram में Porn साइड इफ़ेक्ट , बॉट अकाउंट्स के ज़रिये फ़ैल रहा अश्लील कंटेंट

  • Instagram में Porn साइड इफ़ेक्ट , बॉट अकाउंट्स के ज़रिये फ़ैल रहा अश्लील कंटेंट
You Are HereLatest News
Tuesday, August 13, 2019-2:52 PM

गैजेट डेस्क : दुनिया के सबसे बड़े फोटो शेयरिंग ऐप इंस्टाग्राम में आजकल अश्लील कंटेंट आम हो गया है। बॉट अकाउंट्स के ज़रिये अश्लील कंटेंट का फैलाव आम हो चुका है। कंपनी के फेक अकाउंट्स के प्रति लड़ाई के तमाम दावों से इतर 15 करोड़ फेक अकाउंट्स की जमात से प्रोपेगैंडा , हेट स्पीच, पॉर्नोग्राफी आदि जैसे नेगेटिव चीज़ों का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। 


 

इस रिपोर्ट ने Porn प्रॉब्लम को किया उजागर 

 

PunjabKesari

 

टेक वेबसाइट Engadget के अनुसार सोशल मीडिया प्लेटफार्म इंस्टाग्राम पर पॉर्न प्रॉब्लम स्टार्ट हो गई है। चिंताजनक बात यह है कि यह समस्या समाप्त होने का नाम ही ले रही है। साइबर सिक्योरिटी फर्म Tenable की रिपोर्ट में भी इसी समस्या को उगाजर किया गया है।

 

पॉर्नोग्राफी कंटेंट डालने के लिए "पॉर्न बॉट्स" तैयार किये जा रहे हैं जो लड़कियों के नाम पर फेक अकाउंट्स बनाकर ऐसे अश्लील कंटेंट को फैला रहें है जिससे मासूम बच्चो खासकर टीनएजर्स में नेगेटिव सेक्सुएलिटी यानी कामुकता पैदा हो रही है। 

 

इन बॉट अकाउंट्स को पॉप कल्चर अकाउंट्स के तौर पर बनाया जाता है जिससे इंस्टाग्राम यूज़र्स उनके और असली अकाउंट्स के बीच डिफरेंस जान नहीं पाते है। रिपोर्ट के अनुसार - 'इंस्टाग्राम पर इन पॉर्न बॉट्स की ऐक्टिविटीज बाकी अकाउंट होल्डर्स को फॉलो करने, उनकी फोटोज लाइक करने से लेकर फोटोज पर कॉमेंट्स करने और उनके साथ डायरेक्ट मेसेजेस एक्सचेंज करने तक फैली हुई हैं।' 

 

भारत में भी इंस्टाग्राम पर ख़तरा 

 

PunjabKesari


भारत में भी यह समस्या आम होती जा रही है जहाँ कॉल गर्ल्स , वर्चुअल सेक्सुअल फेवर्स के बदले लोग पेटीएम या भीम पे जैसे वर्चुअल पेमेंट प्लेटफॉर्म्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे लोगों को प्रोस्टीटूशन , ब्लैकमेलिंग , अडुल्टेरी और एक्सटॉरशन जैसे अपराधों का सामना कर पड़ रहा है।

 

सवाल किये जाने पर फेसबुक ने कहा कि उसकी रिव्यू टीम इस समस्या से अवगत है और वह इसे ठीक करने में लगी हुई है। फेसबुक के दावे एक तरफ और हकीकत इंस्टाग्राम से फैलते पॉर्नोग्राफी की सच्चाई एक तरफ है। 


 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Harsh Pandey