कैमरा एप्स से हो रही लोगों की जासूसी, 140 करोड़ यूजर्स पर मंडरा रहा खतरा

  • कैमरा एप्स से हो रही लोगों की जासूसी, 140 करोड़ यूजर्स पर मंडरा रहा खतरा
You Are HereGadgets
Monday, January 20, 2020-12:07 PM

गैजेट डैस्क: अगर आप भी फोटो क्लिक और एडिट करने के लिए थर्ड पार्टी कैमरा एप्स का उपयोग करते हैं तो अब आपको सावधानी बरतने की सख्त जरूरत है। CyberNews के रिसर्चर्स ने एक सर्वे के जरिए 30 ऐसी एंड्रॉयड एप्स की पहचान की है जो मैलवेयर से प्रभावित हैं। यूजर्स के डाटा को चोरी करने के अलावा ये एप्स बिना यूजर की जानकारी उसकी लोकेशन को भी लगातार ट्रैक करती हैं।

140 करोड़ स्मार्टफोन्स पर डाउनलोड हो चुकी हैं ये एप्स

रिपोर्ट में रिसर्चर्स ने बताया है कि ये एप्लिकेशन्स यूजर के डाटा को कलैक्ट करके उन्हें बेच देती हैं। इसके अलावा यूजर को मलिशियस एड्स दिखाकर फिशिंग वेबसाइट्स पर भी रीडायरेक्ट कर दिया जाता है। चिंता की बात है कि अब तक इन एप्स को दुनिया भर में 140 करोड़ स्मार्टफोन्स पर डाउनलोड किया जा चुका है। 

  • इन 30 एप्स में से 16 एप्स को हॉन्ग कॉन्ग में डिवेलप किया गया है। रिपोर्ट में कई चीनी डिवेलपर्स के बारे में भी बताया गया है जो खतरनाक एंड्रॉयड ट्रोजन को फैलाने का काम करते हैं। Meitu इनमें से एक काफी चर्चित डिवैल्पर है जो गूगल प्ले स्टोर के ज्यादातर नियमों का उल्लंघन कर रहा है। इस डिवैल्पर की एप्स स्मार्टफोन से डाटा चोरी करने के साथ माइक्रोफोन और कैमरे का भी एक्सैस प्राप्त कर लेती हैं।

यूजर्स का बेचा जा रहा डाटा

रिपोर्ट में जिन डिवैल्पर्स का जिक्र किया गया है उमें Coocent, KX Camera Team और Dream Room आदि शामिल हैं। ये डिवैल्पर्स ऐडवर्टाइजर्स को यूजर का डाटा बेच कर पैसे कमाते हैं। अनुमान है कि ये लाखों लोगों की लोकेशन को ट्रैक करके हर महीने अनुमानित 4000 डॉलर तक की कमाई कर लेते हैं।

इन एप्स को अभी करें डिलीट

जिन एप्स को रिपोर्ट में खतरनाक बताया गया है उनमें ब्यूटीप्लस, ब्यूटीकैम, ब्यूटी कैमरा, सेल्फी कैमरा, ब्यूटी कैमरा प्लस, स्वीट सेल्फी स्नैप, स्वीट सेल्फी और कैंडी कैमरा एप मुख्य है जिन्हें अभी डिलीट करने की आपको सख्त जरूरत है।

PunjabKesari

PunjabKesari

PunjabKesari


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Popular News