काला मोतिया का इलाज करने के काम आएगी स्मार्ट ड्रेनिंग डिवाइस

  • काला मोतिया का इलाज करने के काम आएगी स्मार्ट ड्रेनिंग डिवाइस
You Are HereTop Stories
Tuesday, November 13, 2018-10:36 AM

- पुरानी टेक्नोलॉजी से कहीं ज्यादा बेहतर है नई तकनीक


गैजेट डेस्क : ‘ग्लूकोमा’ यानी ‘काला मोतिया’ को आंखों की सबसे भयानक बीमारियों में से एक माना जाता है। दुनिया भर में अंधेपन के प्रमुख कारणों में से एक यह बीमारी है, लेकिन अब वैज्ञानिकों ने ऐसी स्मार्ट डिवाइस तैयार की है, जो ग्लूकोमा के मरीजों की दृष्टि को ठीक बनाए रखने में मदद करेगी। अमेरिका में स्थित परड्यू यूनिवर्सिटी के असिस्टेंट प्रोफेसर योवोन ली ने बताया है कि हमने ऐसी ड्रेनिंग डिवाइस को तैयार कर लिया है, जो इस परेशानी का मुकाबला करने में सक्षम है। यह स्मार्ट डिवाइस आंख के अंदर कंपन पैदा करती है, जिससे आंख से बहने वाले पानी को कम किया जा सकता है। यह तकनीक ज्यादा सुरक्षित और कारगर है।

PunjabKesariडिवाइस की कार्यप्रणाली
नई तकनीक के जरिए इलाज करने पर मरीज की आंखों में एक छोटा-सा कट लगाकर आंख के अंदर नली डाली जाएगी, जिससे अंदर जमे लिक्विड को खींचकर बाहर निकाला जा सकेगा। लेकिन इस दौरान ग्लूकोमा बीमारी गंभीर स्तर तक नहीं पहुंची होनी चाहिए।

PunjabKesari

क्या है ग्लूकोमा बीमारी 

आंख में प्रवाहित होने वाले लिक्विड असंतुलित होकर दबाव में आंख की तंत्रिकाओं पर प्रभाव डालने लगते हैं, इसे ही ग्लूकोमा कहते हैं। शुरुआती स्तर पर इसके लक्षण दिखाई नहीं देते, लेकिन जब तक इसके लक्षण समझ में आते हैं, तब तक आंखों को बहुत नुकसान पहुंच चुका होता है। इसकी अंतिम अवस्था में एकमात्र इलाज ऑपरेशन ही रह जाता है। 

PunjabKesari

गंभीर स्थिति में Trabeculectomy सर्जरी 

बता दें कि Trabeculectomy सर्जरी के जरिए भी ग्लूकोमा का इलाज किया जाता है, हालांकि यह सर्जरी बहुत गंभीर स्थिति में ही की जाती है। फिलहाल, इस स्मार्ट ड्रेनिंग डिवाइस को कब तक बाजार में लाया जाएगा, इसकी कोई जानकारी सामने नहीं आई है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Jeevan