टी.वी. देखना हो सकता है और भी महंगा!

  • टी.वी. देखना हो सकता है और भी महंगा!
You Are HereBusiness
Thursday, April 11, 2019-11:42 AM

- ऑप्रेटर्स ने की उपभोक्ताओं पर सर्विस चार्ज लगाने की मांग 

नई दिल्ली : टैलीकॉम रैगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के नए नियमों को लागू हुए दो महीने का समय हो चुका है। इन नियमों को लागू करने के पीछे ट्राई ने तर्क दिया था कि इससे उपभोक्ताओं व ऑप्रेटर्स दोनों को फायदा होगा। हालांकि कई लोगों ने शिकायतें दर्ज कराई हैं कि उनका टी.वी. बिल पहले से ज्यादा हो गया है और चैनलों की संख्या कम हो गई है। दूसरी तरफ डी.टी.एच. ऑप्रेटर्स को मुनाफा हुआ है लेकिन केबल टी.वी. ऑप्रेटर्स की आय में भारी गिरावट हुई है। ऐसे में केबल टी.वी. ऑप्रेटर्स ने ट्राई से मांग की है कि कस्टमर्स पर अतिरिक्त सर्विस चार्ज लगाया जाए। अगर ट्राई ने केबल ऑप्रेटर्स की इस मांग को मान लिया तो आपका टी.वी. देखना और भी महंगा हो जाएगा।

45 प्रतिशत कम हुई केबल टी.वी. ऑप्रेटर्स की आय

रिपोर्ट के मुताबिक ट्राई के नियमों के लागू होने के बाद केबल टी.वी. ऑप्रेटर्स की आय में 45 प्रतिशत तक की गिरावट हुई है। नए डी.टी.एच. और केबल टी.वी. रैगुलेशन के तहत चैनल पैक की कीमत 99 रुपए से शुरू होती है। ट्राई ने बेस पैक की न्यूनतम कीमत 130 रुपए तय की है। इसके आगे चैनल्स बढ़ाने पर ग्राहकों को नैटवर्क कैपेसिटी फीस सहित अतिरिक्त चार्ज देना होगा।

20-25 रुपए हो सकता है सर्विस चार्ज

नए नियमों ने चैनल्स का रेट बढ़ाया है लेकिन इसका फायदा केबल ऑप्रेटर्स को नहीं, बल्कि ब्रॉडकास्टर्स को मिल रहा है। सर्विस प्रोवाइड करने के लिए केबल ऑप्रेटर्स को मुनाफे में से महज 20 प्रतिशत हिस्सा मिलता है। इससे केबल टी.वी. ऑप्रेटर्स तगड़े घाटे में हैं। फिलहाल केबल ऑप्रेटर्स ने 20 से 25 रुपए सर्विस चार्ज लेने का प्रस्ताव रखा है। ऑप्रेटर्स का कहना है कि इससे वे अबाधित रूप से सेवाएं देना जारी रख सकेंगे। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh