बहरेपन से ग्रस्त व्यक्तियों के लिए बनाया गया खास डिवाइस

  • बहरेपन से ग्रस्त व्यक्तियों के लिए बनाया गया खास डिवाइस
You Are HereLatest News
Monday, May 21, 2018-9:58 AM

टैक्नोलॉजी के आगे झुकी बहरेपन की समस्या

जालंधर : बहरेपन की समस्या दुनिया भर में धीरे-धीरे बढ़ती जा रही है। वर्ल्ड हैल्थ आर्गेनाइजेशन की रिपोर्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में करीब 446 मिलियन लोग बहरेपन से ग्रस्त हैं जिनमें 34 मिलियन बच्चे हैं। इनकी संख्या जितनी तेजी से बढ़ रही है उससे अनुमान लगाया गया है कि 2050 तक 900 मिलियन लोग बहरेपन की समस्या के चंगुल में फंस जाएंगे। 

 

इसके अलावा 12 से 35 वर्ष के 1.1 बिलियन ऐसे युवाओं का भी पता लगाया गया है जो ऊंची आवाज से गाने आदि सुनने से बहरेपन की मुसीबत के काफी करीब पहुंच गए हैं। इस तेजी से बढ़ रही समस्या को देखते हुए दुनिया की पहले मॉड्यूल सैल्फ-फिट हियरिंग ऐड डिवाइस को बनाया गया है जो बहरेपन की समस्या से जूझ रहे व्यक्तियों को क्लीयर आवाज़ सुनने में काफी काम आएगी। 

 

देशवासियों की चिंता में ऑस्ट्रेलिया सरकार ने दिया अहम योगदान

ऑस्ट्रेलिया सरकार ने अपने देशवासियों में बढ़ रही बहरेपन की समस्या को लेकर अहम योगदान दिया है। इस Facett नामक डिवाइस को वैसे तो हियरिंग ऐड डिवाइस निर्माता कम्पनी Blamey Saunders द्वारा तैयार किया गया है, लेकिन इस दौरान ऑस्ट्रेलियाई सरकार व लीडिंग मेलबोर्न यूनिवर्सिटीज़ द्वारा पूरी सहायता दी गई है। इस डिवाइस को तैयार करने वाले प्रोजैक्ट को लीड कर रहे डा. इलेन साऊंडर्स ने कहा है कि हमारा मिशन है कि आस्ट्रेलियाई लोग आसानी से सुन सकें और इसके लिए उन्हें ज्यादा कीमत चुकाने की जरूरत भी न पड़े। इस डिवाइस को साइंस और टैक्नोलॉजी का बेहतरीन मेल कहा जा सकता है। यह पहली ऐसी मशीन है जो लोगों को उनके सुनने की क्षमता के हिसाब से एप के जरिए सभी सैटिंग्स करने की अनुमति देती है। 

PunjabKesari

 

लॉन्च होते ही दो अवार्डों से नवाज़ा गया यह डिवाइस

Facett डिवाइस को पहली बार सिडनी के ओपेरा हाऊस में दिखाया गया है। यहां इस ग्राऊंड ब्रेकिंग डिवाइस को आस्ट्रेलिया गुड डिजाइन अवार्ड ऑफ द यीअर व CSIRO डिजाइन अवार्ड से नवाज़ा गया है। इसे गुड डिजाइन अवार्ड देने वाले जज ने अपनी स्टेटमैंट में कहा है कि यह डिवाइस कम सुनने की समस्या वाले लोगों की जिन्दगी पर काफी सकारात्मक प्रभाव डालेगी। इसमें दी गई रीचार्जेबल बैटरी व मैग्नेटिंग कल्पिंग तकनीक को अब तक की सबसे बेहतरीन तकनीक माना जा रहा है। इसे खास तौर पर यूजर को ध्यान में रख कर बनाया गया है। वहीं इसके साथ दिया गया मैग्नेटिक चार्जिंग केस इसे आसानी से चार्ज करने में काफी मददगार है।

PunjabKesari

 

चार्जिंग पोड से मिलेगी चार्जिंग में मदद

Facett डिवाइस को चार्ज करने के लिए खास तरह का चार्जिंग पोड बनाया गया है। आपको बस अपने बिस्तर पर जाने से पहले इस डिवाइस के रीचार्जेबल मॉड्यूल को अलग कर चार्जिंग पोड में लगाना होगा और यह अगले दिन उपयोग में लाने के लिए ऑटोमैटिकली इसकी बैटरी को चार्ज कर देगा। इस डिवाइस और बैटरी मॉड्यूल के बीच मैग्नेट लगा है जो इसे आसानी से अलग कर सम्भालने में मदद करता है। 

PunjabKesari

 

कटिंग ऐज तकनीक  

इस नए मॉड्यूलर हियरिंग ऐड को कटिंग ऐज तकनीक से बनाया गया है जिससे यूजर को बेहतर साऊंड क्वालिटी मिलती है व क्लीयर साऊंड का अनुभव मिलता है। 

PunjabKesari

 

स्मार्टफोन एप से सैट कर सकेंगेे डिवाइस की सैटिंग

इस डिवाइस का उपयोग करने के लिए कम्पनी ने खास IHearYou एप बनाई है जो आपको अपने मन-मुताबिक इस हियरिंग डिवाइस की सैटिंग को सैट करने में मदद करती है। इसके अलावा इस एप के जरिए ही यह भी पता लगाया जा सकता है कि हियरिंग ऐड्स सही तरीके से काम कर रहे हैं या नहीं।

PunjabKesari

 

Sonite हाई डैफिनेशन साऊंड

इसमें लेटैस्ट Sonite टैक्नोलॉजी दी गई है जो आवाज से ही पता लगा लेती है कि आप ज्यादा भीड़-भाड़ में हैं या फिर शांत इलाके यानी घर आदि में हैं। फिर उसी हिसाब से साऊंड आऊटपुट दी जाती है। 96 फ्रीक्वैंसी को सपोर्ट करने वाली यह तकनीक स्पीच के दौरान भी आपको क्लीयर आवाज़ सुनने में भी काफी मदद करेगी। 

PunjabKesari

 

आस्ट्रेलिया के हिसाब से सस्ती है डिवाइस 

Facett नामक इस डिवाइस को आस्ट्रेलिया में प्री आर्डर के लिए उपलब्ध कर दिया गया है। नई तकनीक होने की वजह से इसकी कीमत 3,100 ऑस्ट्रेलियन डॉलर रखी गई है जोकि आस्ट्रेलिया के हिसाब से ज्यादा नहीं है, लेकिन अगर भारत में आस्ट्रेलियाई डॉलर के रेट के हिसाब से देखा जाए तो यह लगभग 1 लाख 58 हजार रुपए बनती है, जिससे भारत जैसे विकासशील देश में आम आदमी के लिए इसे खरीदने में मुश्किल हो सकती है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!