दुनिया में पहली बार की गई रोबोट से रीढ़ की हड्डी की सर्जरी

  • दुनिया में पहली बार की गई रोबोट से रीढ़ की हड्डी की सर्जरी
You Are HereLatest News
Thursday, May 10, 2018-3:45 PM

- High Risk में बचाई गई रोगी की जिंदगी

- लगातार 20 घंटों तक चला ऑपरेशन

जालंधर : जानलेवा बीमारी के होने पर कई बार कैंसर ट्यूमर शरीर में ऐसी जगहों पर पैदा हो जाते हैं जहां से उन्हें हटाते समय रोगी की जान जाने का खतरा रहता है। इस जोखिम को कम करते हुए रोबोट की मदद से दुनिया की पहली रीढ़ की हड्डी की सर्जरी को सफलतापूर्फक पूरा कर लिया गया है जिससे रोगी को नई जिंदगी मिली है। इस सर्जरी में जान जाने के हाई रिस्क को कम करते हुए सफल ऑपरेशन से सर्जनों ने एक नई उपलब्धि को हासिल किया है। इस ग्राउंडब्रैकिंग सर्जरी को अमरीका की यूनिवर्सिटी ऑफ पेनिसिलवेनिया (Pennsylvania) के अस्पताल में बनाए गए ऑपरेशन थियेटर में लगातार 20 घंटों तक किया गया है। वैसे इस प्रक्रिया में दो दिनों का समय लगा है। 

 

27 वर्षीय मरीज को मिली नई जिंदगी
इस सर्जरी के दौरान TORS (trans-oral robot ) नामक सर्जिकल रोबोट की कटिंग ऐज रोबोटिक आर्म्स से 27 वर्षीय मरीज नोह पर्निकोफ (Noah Pernikoff’s) का सफल ऑपरेशन किया गया। इस सर्जरी के दौरान उनके मुह से होते हुए गर्दन में मौजूद टियूमर को निकाला गया।

PunjabKesari

 

सर्जरी में था भारी जोखिम
रोगी की गर्दन में ट्यूमर होने के कारण डॉक्टर्स को डर सता रहा था कि अगर थोड़ी सी भी चूक हुई तो रोगी को पर्मानैंट पैरलाइसिस हो सकता है। वहीं अगर पूरे टियूमर को रिमूव नहीं किया जाता तो यह रोगी की पीठ की तरफ तेजी से बढ़ना शुरू हो जाएगा जिससे रोगी की जान बचाना और भी मुश्किल हो जाएगा, लेकिन इस रोबोट की मदद से ऑपरेशन को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया।  

 

तीन चरणों में पूरा हुआ ऑपरेशन
इस ऑपरेशन को तीन चरणों में पूरा किया गया है। पहले चरण में न्यूरोसर्जन्स ने रोगी की गर्दन तक पहुंच बना कर टियूमर के इर्द-गिर्द की रीढ़ की हड्डी को काट कर अलग किया। जिसके बाद 3 हैड और नैक सर्जन्स ने सर्जिकल रोबोट की मदद से रोगी के मुह से होते हुए इन टियूमर्स को रिमूव किया। इसे हटाने के बाद खाली हुई जगह पर एक हिप बोन लगाई गई व रॉड्स की मदद से इस हिस्से को स्थिरता प्रदान की गई।

PunjabKesari

 

रोगी के लिए कम दर्दनाक है रोबोटिक सर्जरी
रोगी को पैरेलाइज होने से बचाने वाली इस सफलतापूर्वक सर्जरी के बाद माना जा रहा है कि रोबोट्स की मदद से इस तरह के सम्वेदनशील टिश्यूज़ को कम जोखिम में  सुरक्षित तरीके से हटाया जा सकता है। यह तकनीक रोगी के लिए कम दर्दनाक है व इससे इलाज करने पर काफी कम समय में रिकवरी की जा सकती है। 

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन