Apple के खिलाफ Qualcomm के पेटेंट केस को जर्मन कोर्ट ने किया खारिज

  • Apple के खिलाफ Qualcomm के पेटेंट केस को जर्मन कोर्ट ने किया खारिज
You Are HereLatest News
Wednesday, January 16, 2019-1:06 PM

गैजेट डेस्कः पेटेंट को लेकर Apple Inc के खिलाफ Qualcomm Inc ने एक केस दायर किया था, जिसे जर्मनी के एक कोर्ट ने खारिज कर दिया। मैनहेम के एक रीजनल कोर्ट ने कहा कि एप्पल के स्मार्टफोन में क्वालकॉम के चिप्स लगाने से पेटेंट का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है। जानकारी के लिए बता दें कि क्वालकॉम ने एप्पल के साथ दुनिया भर में पेटेंट के सवाल पर लड़ाई छेड़ रखी है। 

PunjabKesari

एप्पल ने फैसले पर जताई खुशी
एप्पल ने कोर्ट के इस फैसले पर खुशी जताते हुए कहा है कि हमें Qualcomm के इस कदम पर अफसोस है। Qualcomm ने दुनिया भर में अदालतों में ऐसे मुकदमे किए हैं। लेकिन उसने कभी किसी पेटेंट कानून का उल्लंघन नहीं किया है।

क्वालकॉम ने उठाया पेटेंट का मुद्दा
क्वालकॉम ने कहा कि Apple हमारे पेटेंट का लगातार उल्लंघन करता रहा है। यह बात क्वालकॉम के एग्जीयूटिव वाइस प्रेसिडेंट डॉन रोसेनबर्ग (Don Rosenberg) ने कही। उन्होंने कहा कि हम मैनहेम कोर्ट के फैसले से सहमत नहीं हैं और इसके खिलाफ अपील करेंगे। 

PunjabKesari

एप्पल ने कोर्ट के डिसीजन पर कमेंट से किया इनकार
Apple ने मैनहेम कोर्ट के डिसीजन पर कमेंट करने से इनकार कर दिया। इसने पेटेंट के सवाल को लेकर ही म्यूनिख में 20 दिसंबर के फैसले के जवाब में जारी एक बयान का उल्लेख किया, जिसके खिलाफ वह अपील कर रहा है। Apple ने उस समय कहा था कि म्यूनिख कोर्ट में की गई अपील पर अभी डिसीजन नहीं आया है। अब वह जर्मनी में अपने 15 रिटेल स्टोर्स पर iPhone 7 और 8 को स्टॉक नहीं करेगा, हालांकि इसके नए मॉडल्स की बिक्री जारी रहेगी। इसके सभी मॉडल डीलर्स के पास बिक्री के लिए एवेलेबल हैं। जर्मनी में एप्पल के प्रमुख रिटेलर ग्रेविस ने कहा कि मंगलवार को उन्होंने आईफोन की पूरी रेंज का स्टॉक बिक्री के लिए रखा था।

क्वालकॉम पर चिप टेक्नोलॉजी मोनोपोली के मिसयूज का आरोप
इस बीच, क्वालकॉम फेडरल ट्रेड कमिशन द्वारा लाए गए एक अमेरिकी मामले का सामना कर रहा है, जिसमें यह आरोप लगाया गया है कि क्वालकॉम मोबाइल चिप टेक्नोलॉजी पर अपनी मोनोपोली का मिसयूज कर रहा है, जिससे स्मार्टफोन इंडस्ट्री पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।
 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Jeevan