फेसबुक ने माना, यूजर्स की पर्सनल बातें सुन रहे कम्पनी के कॉन्ट्रैक्टर्स

  • फेसबुक ने माना, यूजर्स की पर्सनल बातें सुन रहे कम्पनी के कॉन्ट्रैक्टर्स
You Are HereTop Stories
Wednesday, August 14, 2019-2:24 PM

गैजेट डैस्क : यूजर्स की प्राइवेसी को लेकर फेसबुक एक बार फिर विवादों के घेरे में फंस गई है। Bloomberg ने एक रिपोर्ट के जरिए बताया था कि फेसबुक के थर्ड पार्टी कॉन्ट्रैक्टर्स यूजर्स के ऑडियो क्लिप्स को सुन रहे हैं। इस खबर के सामने आने के बाद अब फेसबुक ने ऑडियो क्लिप्स को सुनने वाली बात को मान लिया है। फेसबुक ने कहा है कि शुरुआत में कुछ कॉन्ट्रैक्टर्स को जरूर हायर किया गया था ताकि वह मैसेंजर एप्प को चैक करें और पता लगाएं कि ऑडियो क्लिप्स ठीक तरह से ट्रांसक्राइब हो रहे हैं या नहीं।

  • हालांकि कम्पनी ने यह भी कहा कि जिन कन्ट्रैक्टर्स द्वारा यूजर्स के ऑडियो कलिप्स को सुना जा रहा था उन्होंने इन ऑडियो क्लिप्स का इस्तेमाल एक हफ्ते पहले ही बंद कर दिया है। इस खबर के सामने आने के बाद फेसबुक की प्राइवेसी को लेकर एक बार फिर सवाल खड़े हो गए हैं। 

फेसबुक ने साल 2015 से वॉइस क्लिप को टैक्स्ट में बदलने की सहूलियत दी हुई है लेकिन यह फीचर बाइ डिफॉल्ट ऑफ ही रहता है। फेसबुक का कहना है कि जिन यूजर्स ने इस फीचर का इस्तेमाल किया है बस उन्हीं के ऑडियो क्लिप्स को थर्ड-पार्टी कॉन्ट्रैक्टर्स ने रिव्यू किया है। 

PunjabKesari

फेसबुक के सपोर्ट पेज पर दी गई गलत जानकारी

हैरानी की बात तो यह है कि फेसबुक के सपॉर्ट पेज या सर्विस इस्तेमाल करने के लिए रखे गए नियम व शर्तों में इस बात का जिक्र ही नहीं किया गया है कि फेसूबुक मेसेंजर के ऑडियो क्लिप्स कम्पनी के कन्ट्रैक्टर्स द्वारा रिव्यू किए जाते हैं।  

  • कम्पनी के सपोर्ट पेज पर लिखा है कि वॉइस को टेक्स्ट में बदलने के लिए मशीन लर्निंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है। यूजर्स इस फीचर का जितना ज्यादा इस्तेमाल करेंगे उतना ही बेहतर तरीके से यह फीचर काम कर सकेगा। 

PunjabKesari

अन्य कम्पनियों पर भी उठे सवाल

आपको बता दें कि इससे पहले गूगल, एप्पल और अमेजॉन के कन्ट्रैक्टर्स द्वारा यूजर्स की बातचीत सुनने का मामला सामने आ चुका है। वहीं इसके अलावा गूगल और एलेक्सा भी अपने वॉइस असिस्टेंट प्रॉडक्ट्स के जरिए यूजर्स की ऑडियो को रिव्यू कर रहे थे। 

  • गूगल ने इस मामले पर अपना बचाव करते हुए कहा था कि इसके जरिए गूगल असिस्टेंट को अलग-अलग भाषाओं में काम करने में मदद मिलती है। वहीं एप्पल का कहना है कि उसने सिरी कॉन्वर्सेशन सुनने के लिए थर्ड-पार्टी एम्पलॉयीज़ का इस्तेमाल बंद कर दिया है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh