माइक्रोसॉफ्ट ने एंड्रॉयड OS में ढूंढ निकाला खतरनाक रैनसमवेयर, फोन को पूरी तरह से कर देता है लॉक

  • माइक्रोसॉफ्ट ने एंड्रॉयड OS में ढूंढ निकाला खतरनाक रैनसमवेयर, फोन को पूरी तरह से कर देता है लॉक
You Are HereGadgets
Saturday, October 10, 2020-5:27 PM

गैजेट डैस्क: माइक्रोसॉफ्ट ने एक नए रैनसमवेयर का पता लगाया है जोकि एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम को टारगेट कर रहा है। इस रैनसमवेयर को MalLocker.B नाम दिया गया है जोकि इस समय ऑनलाइन फोरम और वेबसाइट्स के जरिए फैल रहा है। इसका पता Microsoft 365 डिफेंडर रिसर्च टीम ने लगाया है। बताया तो यह भी जा रहा है कि यह मालीशियस एंड्रॉयड एप्स में भी छिपा हो सकता है। इसलिए किसी वेबसाइट से एप्स डाउनलोड करते समय सावधानी बरतें।

किस तरह अटैक करता है MalLocker.B रैनसमवेयर

MalLocker.B रैनसमवेयर यूजर को फोन की स्क्रीन को एक्सैस करने से रोक देता है। यह अन्य रैनसमवेयर्स से बहुत अलग है क्योंकि यह डिवाइस को इनक्रिप्ट नहीं करता, लेकिन स्क्रीन को एक मेसेज के साथ फ्रीज कर देता है। इस मैसेज में दावा किया जाता है कि यह लॉ इन्फोर्समेंट एजेंसी की तरफ से आया है और अब आपको स्क्रीन अनलॉक करने के लिए जुर्माना देना होगा।

नए तरीके से एक्टिवेट होता है यह रैनसमवेयर

यह रैनसमवेयर इनकमिंग कॉल आने पर एक्टिवेट हो जाता है। इसके बाद जब यूजर होम बटन या रीसेंट एप्प बटन प्रेस करता है तो मेसेज के साथ स्क्रीन लॉक हो जाती है।

माइक्रोसॉफ्ट ने दी यूजर्स को यह सलाह

माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि 'अधिकतर एंड्रॉयड रैनसमवेयर से अलग यह नया थ्रेट फाइल्स को इनक्रिप्ट करके उनके ऐक्सिस को ब्लॉक नहीं करता है बल्कि यह स्क्रीन पर मैसेज के साथ डिवाइस का ऐक्सिस ही ब्लॉक कर देता है। इसके बाद एक नोट शो होता है जिसमें पैसे चुकाने के दिशा-निर्देश दिए गए हैं। रिपोर्ट में बताया गया कि "मैलवेयर का कोड सिंपल है और यह आसानी से बहुत सारे फोन्स में फैल सकता है। यूजर्स को सलाह है कि अनजान सोर्स से एप्स को डाउनलोड करने से बचें। फिलहाल इस बात के अभी कोई सबूत नहीं मिले हैं कि यह रैनसमवेयर निजी जानकारी चुराता है या नहीं, लेकिन इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि यह एंड्रॉयड फोन्स को वर्चुअली यूजलेस बना देता है।

 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Latest News

Popular News