भारत का सीरियल किलर बना WhatsApp, फेक न्यूज़ फैलने से हुई 5 लोगों की मौत

  • भारत का सीरियल किलर बना WhatsApp, फेक न्यूज़ फैलने से हुई 5 लोगों की मौत
You Are HereTop Stories
Tuesday, July 3, 2018-3:31 PM

जालंधर : व्हाट्सएप्प पर बढ़ रहीं फेक न्यूज़ के चलते लोगों की मृत्यु होनी शुरू हो गई हैं। व्हाट्सएप्प पर लोग कुछ भी फारवर्ड कर रहे हैं जिसे सही समझ कर लोग भ्रमित हो रहे हैं। द वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक बाल तस्करी की ऑनलाइन अफवाहों के चलते 5 लोगों की मौत हो गई है। महाराष्ट्र के धुले जिले के रेनपाडा गांव में व्हाट्सएप्प के जरिए बच्चों को उठाने वाले गिरोह के सक्रिय होने की रिपोर्ट फैलाई गई। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक जिन लोगों पर इस गिरोह के सदस्य होने का संदेह किया गया उनमें से जब एक ने बच्ची से बात करने की कोशिश की तो अफवाहों की गड़बड़ी के कारण इकट्ठें हुए ग्रामीणों की वजह से पांच लोगों की मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से अफवाहें थीं कि इस क्षेत्र में बच्चों को उठाने वाला गिरोह सक्रिय है।

PunjabKesari

चैटिंग एप्प बन रही लोगों की मौत का कारण

यह देश में व्हाट्सएप्प के जरिए होने वाली हिंसक घटनाओं में से सबसे नवीनतम घटना है। हैरानी की बात तो यह है कि एक चैटिंग एप्प लोगों की मौत का कराण बन रही है। वहीं मई से सोशल मी़डिया पर फैलाए जा रहे फेक मैसेजिस के कारण 12 लोगों की मौत हो गई है। इनमें से सबसे ज्यादा मैसेज व्हाट्सएप्प के जरिए ही फैलाए गए थे। 

PunjabKesari

 

ग्रामीण इलाकों के लोग सबसे ज्यादा प्रभावित

अधिकांश अपराधी ग्रामीण हैं और उनमें से ज्यादा तर लोगों ने स्मार्टफोन्स का पहली बार ही उपयोग किया है। यही कारण है कि उन्होंने बाल तस्करी से जुड़ी इन अफवाहों को बिना किसी भी पुष्टी के सही मान लिया और इससे हिंसा को बढ़ावा मिला।

PunjabKesari

 

पुलिस समेत न्यूज़ ऑर्गनाइज़ेशन्स लोगों को गलत सूचना होने पर उसके बारे में सही जानकारी बता रही हैं। लेकिन फिर भी जो लोग पहली बार व्हाट्सएप्प का उपयोग करते हैं वो किसी के द्वारा भेजी गई फेक खबर को ठीक समझ लेते हैं जिससे देश का माहौल खराब हो रहा है।


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh