फोर्ड और हौंडा ने कैलिफ़ोर्निया emissions framework को किया स्वीकार

  • फोर्ड और हौंडा ने कैलिफ़ोर्निया emissions framework को किया स्वीकार
You Are HereTop Stories
Sunday, July 28, 2019-10:24 AM

गैजेट डेस्क : दुनिया की दो दिग्गज कंपनियां - फोर्ड और होन्डा ने अमेरिका के कैलिफ़ोर्निया राज्य प्रशासन के साथ इर्धन दक्षता डील को लेकर अपनी सहमति जताई है। यह डील ऐसे समय में हुई है जबकि एयर पॉलूशन एमिशन्स को लेकर दुनिया भर में रोलबैक हो रहा है। फोर्ड, बीएमडब्लू ,हौंडा सभी ने मिलकर इस डील को साईन किया है। 

ऑटो मेगा कंपनियों ने इस तरह प्रदूषण कम करने की ली शपथ 

सभी दिग्गज ऑटो निर्मातओं ने इस डील के तहत अपने कार इंजन को इको-फ्रेंडली और फ्यूल एफ्फिसिएंट बनाते हुए इसकी टूनिंग क्षमता को 37 mpg (माइल्स प्रति गैलन) तक करने का प्रण लिया है। सभी ऑटो कंपनियों को यह स्तर साल 2026 तक प्रति वर्ष बनाये रखना होगा। यह स्तर अमेरिका की एनवारनमेंट प्रोटेक्शन एजेंसी (इपीए) के तय किये गए स्तर से भी बेहतर है हालाँकि यह क्लीन पावर प्लान जितना सख्त नहीं है। 
 

क्या होती है कार की इंजन टूनिंग कैपेसिटी ? 

कार एक गैलन पेट्रोल में कितना चल पाती है इसी से उसकी इंजन टूनिंग कैपेसिटी का पता चलता है। इसको mpg (miles per gallon) इकाई में निकाला जाता है। 

PunjabKesari

 

जब ओबामा सरकार ने करी थी पहल तब हुआ था ऐसा हाल 

PunjabKesari

साल 2012 में ओबामा सरकार ने वायु प्रदूषण की समस्या पर बड़ा कदम उठाते हुए सभी कारो और लाइट ट्रको के लिए 54.5 mpg की न्यूनतम टूनिंग क्षमता रखने का लक्ष्य दिया था। इस लक्ष्य को पाने के लिए सभी ऑटो कंपनियों को साल 2025 का लक्ष्य दिया गया था। अमेरिका में सभी ऑटो कंपनियों ने इसका कड़ा विरोध किया था। 

साल 2016 के राष्ट्रपति चुनाव के उपरांत एपीए के होने वाले चीफ स्कॉट पृइट ने कहा ने इस फैसले को वापिस लेने की बात कही थी हालाँकि उन्हें देश के 12 राज्यों के खुले विरोध का सामना करना पड़ा था। उस समय इन राज्यों ने साफ़ कहा था कि यदि पर्यावरण प्रोटेक्शन स्टैंडर्ड्स से कोई छेड़छाड़ हुई तो वह इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। इसके बाद ऑटो कंपनियों को राज्यों के आगे झुकना पड़ा था।

 

कैलिफ़ोर्निया राज्य के पास यह विशेष अधिकार 

PunjabKesari

कैलिफ़ोर्निया राज्य के पास खुद से एमिशन स्टैण्डर्ड सेट करने का विशेष अधिकार है। इसके चलते अमेरिका में हर राज्य में अलग कानून की बहस भी छिड़ गई थी। साल 2016 की गलती से बचते हुए इस बार चारों ऑटो निर्माता कंपनियों ने इस डील पर अपनी सहमति दे दी है। सभी ने अपनी स्वीकृति देते हुए कहा है कि वह कैलिफ़ोर्निया राज्य के इस फैसले को बिना शर्त मानेंगे। 

 

अमेरिका की तुलना में यूरोप में एमिशन स्तर है अलग 

अमेरिका और पूरे यूरोप की तुलना की जाए तो साफ़ देखा जा सकता है कि जहाँ यूरोप में साल 2021 तक गैस से चलने वाले वाहनों के लिए टूनिंग क्षमता 57 mpg रखी गई है तो वहीँ अमेरिका में यह स्तर 37 mpg ही है। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Harsh Pandey