YouTube पर लगा आरोप, बड़े स्टार्स को दे रही कम्पनी कॉन्टेंट पॉलिसी में छूट

  • YouTube पर लगा आरोप, बड़े स्टार्स को दे रही कम्पनी कॉन्टेंट पॉलिसी में छूट
You Are HereGadgets
Sunday, August 11, 2019-5:18 PM

गैजेट डैस्क : वीडियो शेयरिंग वैबसाइट YouTube एक बार फिर विवादों के घेरे में फंस गई है। कुछ कॉन्टेंट मॉडरेटर्स ने यूट्यूब पर आरोप लगाया है कि कम्पनी अपने प्लैटफोर्म पर बड़े स्टार्स और यूट्यूबर्स को छूट देती है। उनका कहना है कि गलत और न्यूड कन्टैंट को रोकने वाले नियमें में यूट्यूब बड़े स्टार्स को छूट दे रही है जोकि गलत है। 

  • आरोप लगाने वाले कॉन्टेंट मॉडरेटर्स का कहना है कि बड़े यूट्यूब स्टार्स से वीडियो शेयरिंग वैबसाइट YouTube को भारी कमाई होती है। ऐसे में कन्टैंट को लेकर यूट्यूब इन स्टार्स के लिए दरियादिल दिखाती है। 

इन YouTube चैनल्स को हो रहा सबसे ज्यादा फायदा

वॉशिंगटन पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में कॉन्टेंट मॉर्टरेटर्स ने बताया है कि यूट्यूब के इस ढीले रवैये का फायदा सबसे ज्यादा जाने माने चैनल्स ले रहे हैं। उदाहरण देते हुए उन्होंने कुछ कन्टैंट क्रिएटर्स का नाम भी बताया और कहा कि इनमें PewDiePie, Steven Crowder और Ligan Paul भी शामिल हैं। 

PunjabKesari

YouTube ने दी प्रतिक्रिया

यूट्यूब ने इन आरोपोें का खंडन करते हुए कहा कि उसके प्लैटफॉर्म के लिए लागू की गई कॉन्टेंट पॉलिसी सभी के लिए एक जैसी ही है। यूट्यूब के प्रवक्ता एलेक्स जोसेफ ने अपने बयान में कहा है कि हम यूट्यूब की पालिसी पर कड़ी नजर रखते हैं। इस दौरान हम इस बात पर जरा भी ध्यान नहीं देते हैं कि क्रिएटर कौन है।

इससे पहले भी लग चुके हैं यूट्यूब पर आरोप

यूट्यूब पर इससे पहले भी नफरत फैलाने वाले और अनुचित कॉन्टेंट को प्रमोट करने का आरोप लग चुका है। आपको बता दें कि कन्टैंट मॉडरेटर्स ने यूट्यूब वीडियोस के रेटिंग क्राइटेरिया को लेकर जानकारी देते हुए बताया था कि यह व्यूअर्स की बजाय ऐडवर्टाइजर्स पर फोकस करता है जिस वजह से यूट्यूब की गाइडलाइन को समझने में हमें मुश्किल होती है। वहीं कुछ का कहना है कि प्रतिदिन वीडियोस का रिव्यू करने के कारण यूट्यूब से गलत कॉन्टेंट को मार्क और डिलीट करने में वक्त लग रहा है।

यूट्यूब को है अपनी टैक्नोलॉजी पर भरोसा

यूट्यूब का कहना है कि वह दो अलग-अलग निर्धारित किए गए स्टैन्डर्ड्स पर काम करती है। कन्टैंट मॉडरेटर्स के आरोपो को गलत बताते हुए यूट्यूब ने साफ किया कि जिन विज्ञापनों से फायदा होता है उनके लिए यूट्यूब के नियम दूसरे क्रिएटर्स के मुकाबले और भी कड़े हैं। इसके अलावा कहा गया कि कम्पनी अपनी गाइडलाइन को लागू करने और गलत कॉन्टेंट को रोकने के लिए टैक्नोलॉजी की पूरी मदद लेती है। 


यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!Edited by:Hitesh

Popular News